top of page

Joshua 17 - 18

There was also a lot for the tribe of Manasseh; for he was the firstborn of Joseph; to wit, for Machir the firstborn of Manasseh, the father of Gilead: because he was a man of war, therefore he had Gilead and Bashan. 
Joshua 17
17 There was also a lot for the tribe of Manasseh; for he was the firstborn of Joseph; to wit, for Machir the firstborn of Manasseh, the father of Gilead: because he was a man of war, therefore he had Gilead and Bashan.
2 There was also a lot for the rest of the children of Manasseh by their families; for the children of Abiezer, and for the children of Helek, and for the children of Asriel, and for the children of Shechem, and for the children of Hepher, and for the children of Shemida: these were the male children of Manasseh the son of Joseph by their families.
3 But Zelophehad, the son of Hepher, the son of Gilead, the son of Machir, the son of Manasseh, had no sons, but daughters: and these are the names of his daughters, Mahlah, and Noah, Hoglah, Milcah, and Tirzah.
4 And they came near before Eleazar the priest, and before Joshua the son of Nun, and before the princes, saying, The Lord commanded Moses to give us an inheritance among our brethren. Therefore according to the commandment of the Lord he gave them an inheritance among the brethren of their father.
5 And there fell ten portions to Manasseh, beside the land of Gilead and Bashan, which were on the other side Jordan;
6 Because the daughters of Manasseh had an inheritance among his sons: and the rest of Manasseh's sons had the land of Gilead.
7 And the coast of Manasseh was from Asher to Michmethah, that lieth before Shechem; and the border went along on the right hand unto the inhabitants of Entappuah.
8 Now Manasseh had the land of Tappuah: but Tappuah on the border of Manasseh belonged to the children of Ephraim;
9 And the coast descended unto the river Kanah, southward of the river: these cities of Ephraim are among the cities of Manasseh: the coast of Manasseh also was on the north side of the river, and the outgoings of it were at the sea:
10 Southward it was Ephraim's, and northward it was Manasseh's, and the sea is his border; and they met together in Asher on the north, and in Issachar on the east.
11 And Manasseh had in Issachar and in Asher Bethshean and her towns, and Ibleam and her towns, and the inhabitants of Dor and her towns, and the inhabitants of Endor and her towns, and the inhabitants of Taanach and her towns, and the inhabitants of Megiddo and her towns, even three countries.
12 Yet the children of Manasseh could not drive out the inhabitants of those cities; but the Canaanites would dwell in that land.
13 Yet it came to pass, when the children of Israel were waxen strong, that they put the Canaanites to tribute, but did not utterly drive them out.
14 And the children of Joseph spake unto Joshua, saying, Why hast thou given me but one lot and one portion to inherit, seeing I am a great people, forasmuch as the Lord hath blessed me hitherto?
15 And Joshua answered them, If thou be a great people, then get thee up to the wood country, and cut down for thyself there in the land of the Perizzites and of the giants, if mount Ephraim be too narrow for thee.
16 And the children of Joseph said, The hill is not enough for us: and all the Canaanites that dwell in the land of the valley have chariots of iron, both they who are of Bethshean and her towns, and they who are of the valley of Jezreel.
17 And Joshua spake unto the house of Joseph, even to Ephraim and to Manasseh, saying, Thou art a great people, and hast great power: thou shalt not have one lot only:
18 But the mountain shall be thine; for it is a wood, and thou shalt cut it down: and the outgoings of it shall be thine: for thou shalt drive out the Canaanites, though they have iron chariots, and though they be strong.
Joshua 18
18 And the whole congregation of the children of Israel assembled together at Shiloh, and set up the tabernacle of the congregation there. And the land was subdued before them.
2 And there remained among the children of Israel seven tribes, which had not yet received their inheritance.
3 And Joshua said unto the children of Israel, How long are ye slack to go to possess the land, which the Lord God of your fathers hath given you?
4 Give out from among you three men for each tribe: and I will send them, and they shall rise, and go through the land, and describe it according to the inheritance of them; and they shall come again to me.
5 And they shall divide it into seven parts: Judah shall abide in their coast on the south, and the house of Joseph shall abide in their coasts on the north.
6 Ye shall therefore describe the land into seven parts, and bring the description hither to me, that I may cast lots for you here before the Lord our God.
7 But the Levites have no part among you; for the priesthood of the Lord is their inheritance: and Gad, and Reuben, and half the tribe of Manasseh, have received their inheritance beyond Jordan on the east, which Moses the servant of the Lord gave them.
8 And the men arose, and went away: and Joshua charged them that went to describe the land, saying, Go and walk through the land, and describe it, and come again to me, that I may here cast lots for you before the Lord in Shiloh.
9 And the men went and passed through the land, and described it by cities into seven parts in a book, and came again to Joshua to the host at Shiloh.
10 And Joshua cast lots for them in Shiloh before the Lord: and there Joshua divided the land unto the children of Israel according to their divisions.
11 And the lot of the tribe of the children of Benjamin came up according to their families: and the coast of their lot came forth between the children of Judah and the children of Joseph.
12 And their border on the north side was from Jordan; and the border went up to the side of Jericho on the north side, and went up through the mountains westward; and the goings out thereof were at the wilderness of Bethaven.
13 And the border went over from thence toward Luz, to the side of Luz, which is Bethel, southward; and the border descended to Atarothadar, near the hill that lieth on the south side of the nether Bethhoron.
14 And the border was drawn thence, and compassed the corner of the sea southward, from the hill that lieth before Bethhoron southward; and the goings out thereof were at Kirjathbaal, which is Kirjathjearim, a city of the children of Judah: this was the west quarter.
15 And the south quarter was from the end of Kirjathjearim, and the border went out on the west, and went out to the well of waters of Nephtoah:
16 And the border came down to the end of the mountain that lieth before the valley of the son of Hinnom, and which is in the valley of the giants on the north, and descended to the valley of Hinnom, to the side of Jebusi on the south, and descended to Enrogel,
17 And was drawn from the north, and went forth to Enshemesh, and went forth toward Geliloth, which is over against the going up of Adummim, and descended to the stone of Bohan the son of Reuben,
18 And passed along toward the side over against Arabah northward, and went down unto Arabah:
19 And the border passed along to the side of Bethhoglah northward: and the outgoings of the border were at the north bay of the salt sea at the south end of Jordan: this was the south coast.
20 And Jordan was the border of it on the east side. This was the inheritance of the children of Benjamin, by the coasts thereof round about, according to their families.
21 Now the cities of the tribe of the children of Benjamin according to their families were Jericho, and Bethhoglah, and the valley of Keziz,
22 And Betharabah, and Zemaraim, and Bethel,
23 And Avim, and Pharah, and Ophrah,
24 And Chepharhaammonai, and Ophni, and Gaba; twelve cities with their villages:
25 Gibeon, and Ramah, and Beeroth,
26 And Mizpeh, and Chephirah, and Mozah,
27 And Rekem, and Irpeel, and Taralah,
28 And Zelah, Eleph, and Jebusi, which is Jerusalem, Gibeath, and Kirjath; fourteen cities with their villages. This is the inheritance of the children of Benjamin according to their families.
India hindi

Joshua
17  - 18

17 मनश्शे के गोत्र के लिए भी चिट्ठी थी; क्योंकि वह यूसुफ का जेठा था; अर्थात् गिलाद के पिता मनश्शे के जेठे माकीर के लिए: क्योंकि वह योद्धा था, इसलिए उसके पास गिलाद और बाशान थे।
2 मनश्शे के बाकी वंशजों के लिए भी उनके कुलों के अनुसार चिट्ठी थी; अबीएजेर की सन्तान, हेलेक की सन्तान, अस्रीएल की सन्तान, शेकेम की सन्तान, हेपेर की सन्तान, और शमीदा की सन्तान के लिए: ये ही यूसुफ के पुत्र मनश्शे के पुरुष वंशज थे।
3 परन्तु गिलाद का पोता, माकीर का पोता, मनश्शे का पोता, हेपेर का पुत्र सलोफाद के कोई पुत्र नहीं, केवल बेटियाँ थीं: और उसकी बेटियों के नाम ये हैं, महला, नूह, होग्ला, मिल्का, और तिर्सा।
4 और वे एलीआजर याजक, नून के पुत्र यहोशू और हाकिमों के पास आकर कहने लगे, यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी कि वह हमें हमारे भाइयों के बीच में भाग दे। इसलिए यहोवा की आज्ञा के अनुसार उसने उन्हें उनके पिता के भाइयों के बीच में भाग दिया।
5 और मनश्शे को गिलाद और बाशान की भूमि के पास, जो यरदन के उस पार थी, दस भाग मिले;
6 क्योंकि मनश्शे की बेटियों को उसके बेटों के बीच में भाग मिला था: और मनश्शे के बाकी बेटों को गिलाद की भूमि मिली थी।
7 और मनश्शे की सीमा आशेर से लेकर मिकमता तक थी, जो शेकेम के सामने है; और सीमा दाहिनी ओर एनतप्पूह के निवासियों तक जाती थी।
8 अब मनश्शे के पास तप्पूह की भूमि थी: लेकिन मनश्शे की सीमा पर तप्पूह एप्रैम के बच्चों का था; 9 और तट नदी के दक्षिण की ओर काना नदी तक उतर गया: एप्रैम के ये नगर मनश्शे के नगरों में से हैं: मनश्शे का तट भी नदी के उत्तर की ओर था, और इसका निकास समुद्र पर था: 10 दक्षिण की ओर यह एप्रैम का था, और उत्तर की ओर यह मनश्शे का था, और समुद्र उसकी सीमा थी; और वे उत्तर की ओर आशेर में और पूर्व की ओर इस्साकार में एक साथ मिले। 11 और मनश्शे के पास इस्साकार और आशेर में बेतशान और उसके नगर, और यिबलाम और उसके नगर, और दोर और उसके नगर के निवासी, और एन्दोर और उसके नगर के निवासी, और तानाक और उसके नगर के निवासी, और मगिद्दो और उसके नगर के निवासी थे, अर्थात् तीन देश थे। 12 फिर भी मनश्शे के वंशज उन नगरों के निवासियों को नहीं निकाल सके; लेकिन कनानी लोग उस देश में बस गए। 13 फिर भी ऐसा हुआ कि जब इस्राएल के लोग शक्तिशाली हो गए, तो उन्होंने कनानियों से कर वसूल किया, परन्तु उन्हें पूरी तरह से नहीं निकाला।
14 और यूसुफ के बच्चों ने यहोशू से कहा, “हम तो बहुत बड़ी जाति हैं, और यहोवा ने अब तक मुझे आशीष दी है, फिर भी तूने हमें एक ही भाग और एक ही भाग क्यों दिया है?”
15 और यहोशू ने उनसे कहा, “यदि तुम बहुत बड़ी जाति हो, तो जंगल के देश में जाओ, और वहाँ परिज्जियों और दैत्यों के देश में अपने लिए घास काट डालो, यदि एप्रैम पर्वत तुम्हारे लिए छोटा हो।”
16 और यूसुफ के बच्चों ने कहा, “यह पहाड़ी हमारे लिए काफी नहीं है: और घाटी के देश में रहने वाले सभी कनानियों के पास लोहे के रथ हैं, चाहे वे बेतशान और उसके नगरों के हों या यिज्रेल की घाटी के।” 17 और यहोशू ने यूसुफ के घराने से अर्थात् एप्रैम और मनश्शे से कहा, तुम लोग बहुत बड़ी जाति हो, और तुम्हारा बल भी बड़ा है; तुम्हें एक ही भाग न मिलेगा। 18 परन्तु पहाड़ तुम्हारा है; क्योंकि वह जंगल है, और तुम उसे काट डालना; और उसके बाहर के भाग भी तुम्हारे होंगे; क्योंकि चाहे कनानियों के पास लोहे के रथ हों, और वे बलवान हों, तौभी तुम उन्हें निकाल दोगे।

18 और इस्राएलियों की सारी मण्डली शीलो में इकट्ठी हुई, और वहाँ मण्डली का तम्बू खड़ा किया। और देश उनके वश में हो गया।
2 और इस्राएलियों में सात गोत्र रह गए, जिन्होंने अभी तक अपना भाग नहीं पाया था।
3 और यहोशू ने इस्राएलियों से कहा, जो देश तुम्हारे पितरों के परमेश्वर यहोवा ने तुम्हें दिया है, उस पर अधिकार करने में तुम कब तक आलस करते रहोगे?
4 अपने में से प्रत्येक गोत्र के लिये तीन पुरुष चुन लो: और मैं उन्हें भेजूँगा, और वे उठकर देश में घूमेंगे, और अपने भाग के अनुसार उसका वर्णन करेंगे; और वे फिर मेरे पास आएँगे।
5 और वे इसे सात भागों में बाँटेंगे: यहूदा दक्षिण की ओर अपने देश में रहेगा, और यूसुफ का घराना उत्तर की ओर अपने देश में रहेगा।
6 इसलिए तुम देश को सात भागों में बाँटकर उसका वर्णन मेरे पास ले आओ, कि मैं यहाँ हमारे परमेश्वर यहोवा के साम्हने तुम्हारे लिये चिट्ठी डालूँ।
7 परन्तु लेवियों का तुम्हारे बीच कोई भाग नहीं है; क्योंकि यहोवा का याजकपद उनका भाग है: और गाद, रूबेन और मनश्शे के आधे गोत्र ने यरदन के पार पूर्व की ओर अपना भाग पाया है, जिसे यहोवा के दास मूसा ने उन्हें दिया था।
8 तब वे लोग उठकर चले गए: और यहोशू ने उन लोगों को जो देश का वर्णन करने गए थे, यह आज्ञा दी, कि जाओ, देश में चलो, और उसका वर्णन करो, और फिर मेरे पास आओ, कि मैं यहाँ शीलो में यहोवा के साम्हने तुम्हारे लिये चिट्ठी डालूँ।
9 तब वे लोग चले गए, और देश में से होकर चले, और एक पुस्तक में उसके नगरों का वर्णन करके सात भाग कर दिए, और फिर शीलो में सेना के पास यहोशू के पास आए।
10 तब यहोशू ने उनके लिये शीलो में यहोवा के साम्हने चिट्ठी डाली: और वहाँ यहोशू ने इस्राएलियों को उनके भागों के अनुसार देश बाँट दिया।
11 और बिन्यामीनियों के गोत्र की चिट्ठी उनके कुलों के अनुसार निकली: और उनकी चिट्ठी की सीमा यहूदा के बच्चों और यूसुफ के बच्चों के बीच निकली।
12 और उत्तर की ओर उनकी सीमा यरदन से थी; और वह सीमा उत्तर की ओर यरीहो की ओर से होकर पश्चिम की ओर पहाड़ों से होकर ऊपर चली गई; और वहां से निकलकर बेतवेन के जंगल में निकली।
13 और वहां से वह सीमा लूज की ओर, जो बेतेल भी कहलाता है, दक्षिण की ओर बढ़ी; और वह अतारोतादार तक उतर गई, जो उस पहाड़ी के पास है जो निचले बेथोरोन के दक्षिण की ओर स्थित है।
14 और वहां से वह सीमा खींची गई, और बेथोरोन के सामने की पहाड़ी से दक्षिण की ओर समुद्र के कोने को घेरती हुई निकली; और वहां से निकलकर किर्यतबाल में निकली, जो किर्यतयारीम भी कहलाता है, यहूदा के बच्चों का एक शहर है: यह पश्चिमी भाग था।
15 और दक्षिणी छोर किर्यतयारीम के अंत से था, और सीमा पश्चिम की ओर निकलकर नेप्तोह के जल के कुएँ तक पहुँचती थी:
16 और सीमा उस पहाड़ के अंत तक उतरती थी जो हिन्नोम के पुत्र की घाटी के सामने स्थित है, और जो उत्तर की ओर दैत्यों की घाटी में है, और हिन्नोम की घाटी में, दक्षिण की ओर यबूसी की ओर उतरती थी, और एनरोगेल तक उतरती थी,
17 और उत्तर से खींची गई, और एनशेमेश तक गई, और गलीलोत की ओर बढ़ी, जो अदुम्मीम की चढ़ाई के सामने है, और रूबेन के पुत्र बोहन के पत्थर तक उतरी,
18 और अराबा के सामने की ओर उत्तर की ओर से गुजरी, और अराबा तक उतर गई:
19 और सीमा बेथोग्ला के उत्तर की ओर से गुजरी: और सीमा के बाहरी भाग जॉर्डन के दक्षिणी छोर पर खारे समुद्र की उत्तरी खाड़ी में थे: यह दक्षिणी तट था।
20 और यरदन नदी पूर्व की ओर उसकी सीमा थी। यह बिन्यामीन के वंशजों की विरासत थी, जो उनके कुलों के अनुसार, उसके चारों ओर की भूमि थी।
21 अब बिन्यामीन के वंशजों के गोत्र के नगर उनके कुलों के अनुसार ये थे: यरीहो, बेतहोग्ला, केसीज़ की घाटी,
22 और बेतराबा, समारैम, बेतेल,
23 और अवीम, फराह, ओप्रा,
24 और केपरहाम्मोनै, ओप्नी, और गेबा; बारह नगर और उनके गाँव:
25 गिबोन, रामा, बेरोत,
26 और मिस्पे, कपीरा, मोजा,
27 और रेकेम, यिर्पील, और तराला,
28 और सेला, एलीप, और यबूसी, जो यरूशलेम भी कहलाता है, गिबात और किर्यत; चौदह नगर और उनके गाँव। बिन्यामीन के वंशजों की विरासत उनके कुलों के अनुसार यही है।

भगवान का साम्राज्य

भगवान का साम्राज्य

परन्तु जब तुम प्रार्थना करो, तो अन्यजातियों की नाईं व्यर्थ न दोहराओ; क्योंकि वे समझते हैं, कि उनके अधिक बोलने से हमारी सुनी जाएगी।
इसलिये तुम उनके समान न बनो; क्योंकि तुम्हारा पिता तुम्हारे मांगने से पहिले ही जानता है, कि तुम्हें किस वस्तु की क्या आवश्यकता है।
इस रीति से तुम प्रार्थना करो:

स्वर्ग में कला करनेवाले जो हमारे पिता,
पवित्र हो तेरा नाम।
तुम्हारा राज्य आओ।
तेरी इच्छा पृथ्वी पर पूरी हो

जैसे यह स्वर्ग में है,
हमें इस दिन हमारी रोज़ की रोटी दें।
और हमारे अपराधों और पापों को क्षमा कर;
जैसा कि हम उन सभी के लिए प्रार्थना करते हैं जो अतिक्रमण करते हैं

या हमारे विरुद्ध पाप करो।
और हमें प्रलोभन में न ले जाओ,

परन्तु हमें सब विपत्तियों से बचा
क्योंकि राज्य तेरा है
सारी शक्ति और सारी महिमा
हमेशा हमेशा के लिए

अपना प्रार्थना अनुरोध या किसी भी प्रकार का प्रकाशित अभिवादन या सिर्फ आशीर्वाद देने के लिए कृपया ईमेल करें...

Admin@JesusChristOfNazareth.COM

हे प्रियो, हर एक आत्मा पर विश्वास न करो, वरन् आत्माओं को परखो कि वे परमेश्वर की ओर से हैं कि नहीं; क्योंकि बहुत से झूठे भविष्यद्वक्ता जगत में निकल खड़े हुए हैं। परमेश्वर की आत्मा को तुम इसी से पहचान सकते हो: जो कोई आत्मा मान लेती है कि यीशु मसीह देह में होकर आया है, वह परमेश्वर की ओर से है: और जो कोई आत्मा नहीं मान लेती कि यीशु मसीह देह में होकर आया है, वह परमेश्वर की ओर से नहीं: और यही मसीह विरोधी की आत्मा है, जिसके विषय में तुम सुन चुके हो कि वह आनेवाली है, और अब भी जगत में है। हे बालकों, तुम परमेश्वर के हो, और तुम ने उन पर जय पाई है, क्योंकि जो तुम में है, वह उस से जो संसार में है, बड़ा है। वे संसार के हैं, इसलिये वे संसार की बातें बोलते हैं, और संसार उनकी सुनता है। हम परमेश्वर के हैं: जो परमेश्वर को जानता है, वह हमारी सुनता है; जो परमेश्वर का नहीं है, वह हमारी नहीं सुनता। इसी से हम सत्य की आत्मा और भ्रम की आत्मा को पहचान सकते हैं। हे प्रियो, हम एक दूसरे से प्रेम रखें: क्योंकि प्रेम परमेश्वर से है; और जो कोई प्रेम करता है, वह परमेश्वर से जन्मा है, और परमेश्वर को जानता है। 1. यूहन्ना 4:1-7

    "AF":  "Afghanistan",
    "AX":  "Aland Islands",
    "AL":   "Albania",
    "DZ":  "Algeria",
     AS":  "American                             Samoa", 
    "AD": "Andorra",
    "AO": "Angola",
    "AI":   "Anguilla",
    "AQ": "Antarctica",
    "AG": "Antigua and                         Barbuda",
    "AR": "Argentina", 
    "AM": "Armenia",   
    "AW": "Aruba",
    "AU": "Australia",
    "AT": "Austria", 
    "AZ": "Azerbaijan",
    "BS": "Bahamas",
    "BH": "Bahrain",
    "BD": "Bangladesh",
    "BB": "Barbados",
    "BY": "Belarus",
    "BE": "Belgium",
    "BZ": "Belize",
    "BJ":  "Benin",
    "BM": "Bermuda",
    "BT":  "Bhutan",
    "BO": "Bolivia",
    "BQ": "Bonaire, Sint                Eustatius and Saba",
    "BA":  "Bosnia and hertz.      "BW": "Botswana",
    "BV":  "Bouvet Island",
    "BR":  "Brazil",
    "IO":  "British Indian                         Ocean 
    "BN": "Brunei                                   Darussalam",     

    "BG":  "Bulgaria",
     "BF": "Burkina Faso",
     "BI": "Burundi",
     "KH": "Cambodia",
    "CM": "Cameroon",
    "CA":  "Canada",
    "CV":  "Cape Verde",
    "KY":  "Cayman Islands",
    "CF":  "Central                                 African Rep.
    "TD":  "Chad",
    "CL":  "Chile",
    "CN": "China",
    "CX": "Christmas Island",
    "CC": "Cocos                        (Keeling) Islands",
    "CO": "Colombia",
    "KM": "Comoros",
    "CG": "Congo",
    "CD": "Congo, the                           Democratic R
    "CK": "Cook Islands",
    "CR": "Costa Rica",
    "CI": "Cote D'Ivoire",
    "HR": "Croatia",
    "CU": "Cuba",
    "CW": "Curacao",
    "CY": "Cyprus" G
    "CY" "Cyprus" T
    "CZ": "Czech Republic",
    "DK": "Denmark",
    "DJ": "Djibouti",
    "DM": "Dominica",
    "DO": "Dominican                           Republic",
    "EC": "Ecuador",
    "EG":  "Egypt",
    "SV":   "El Salvador",
    "GQ": "Equatorial                           Guinea",
    "ER":   "Eritrea",
    "EE":   "Estonia",
    "ET":   "Ethiopia",
    "FK":   "Falkland Islands 
    "FO":   "Faroe Islands",
    "FJ":    "Fiji",
    "FI":    "Finland",
    "FR":   "France",
    "GF":  "French Guiana",
    "PF":   "French Polynesia",
    "TF":   "French Southern T 
    "GA": "Gabon",
    "GM": "Gambia",
    "GE":  "Georgia",
    "DE":  "Germany",
    "GH": "Ghana",
    "GI":  "Gibraltar",
    "GR": "Greece",
    "GL": "Greenland",
    "GD": "Grenada",
    "GP": "Guadeloupe",
    "GU": "Guam",
    "GT": "Guatemala",
    "GG": "Guernsey",
    "GN": "Guinea",
    "GW": "Guinea-Bissau",
    "GY":  "Guyana",
    "HT":  "Haiti",
    "VA": "Holy See
    "HN": "Honduras",
    "HK": "Hong Kong",
    "HU": "Hungary",
    "IS":   "Iceland",
    "IN":  "India",
    "ID":   "Indonesia",
    "IR":   "Iran, ,
    "IQ":  "Iraq",
    "IE":   "Ireland",
    "IM":  "Isle of Man",
    "IL":    "Israel",
    "IT":   "Italy",
    "JM":  "Jamaica",
    "JP":    "Japan",
    "JE":    "Jersey",
    "JO":   "Jordan",
    "KZ":   "Kazakhstan",
    "KE":   "Kenya",
    "KI":    "Kiribati",
    "KP":   "Korea, D.P.R.
    "KR":   "Korea,
    "XK":   "Kosovo",
    "KW": "Kuwait",
    "KG":  "Kyrgyzstan",
    "LA":   "Lao P.D.R.
    "LV":   "Latvia",
    "LB":   "Lebanon",
    "LS":   "Lesotho",
    "LR":   "Liberia",
    "LY":   "Libyan Arab              "LI":    "Liechtenstein",
    "LT":   "Lithuania",
    "LU":  "Luxembourg",
    "MO": "Macao",
    "MK":  "Macedonia
    "MG": "Madagascar",
    "MW": "Malawi",
    "MY":  "Malaysia",
    "MV":  "Maldives",
    "ML":   "Mali",
    "MT":   "Malta",
    "MH":  "Marshall Islands",
    "MQ": "Martinique",
    "MR":  "Mauritania",
    "MU": "Mauritius",
    "YT":   "Mayotte",
    "MX":  "Mexico",
    "FM":  "Micronesia,
    "MD": "Moldova, ",
    "MC": "Monaco",
    "MN": "Mongolia",
    "ME":  "Montenegro",
    "MS":  "Montserrat",
    "MA": "Morocco",
    "MZ": "Mozambique",
    "MM": "Myanmar",
    "NA":  "Namibia",
    "NR":  "Nauru",
    "NP": "Nepal",
    "NL": "Netherlands",
    "AN": "Netherlands                         Antilles",
    "NC": "New Caledonia",
    "NZ": "New Zealand",
    "NI":  "Nicaragua",
    "NE": "Niger",
    "NG": "Nigeria",
    "NU": "Niue",
    "NF": "Norfolk Island",
    "MP": "Northern Mariana                 Islands",
    "NO": "Norway",
    "OM": "Oman",
    "PK":   "Pakistan",
    "PW":  "Palau",
    "PS":   "Palestinian                           Territory, 
    "PA":   "Panama",
    "PG": "Papua New                          Guinea",
    "PY": "Paraguay",
    "PE": "Peru",
    "PH": "Philippines",
    "PN": "Pitcairn",
    "PL":   "Poland",
    "PT":   "Portugal",
    "PR":   "Puerto Rico",
    "QA":  "Qatar",
    "RE":   "Reunion",
    "RO":  "Romania",
    "RU":   "Russian                                Federation",
    "RW":  "Rwanda",
    "BL":    "Saint Barthelemy",
    "SH":   "Saint Helena",
    "KN":   "Saint Kitts and                       Nevis",
    "LC":   "Saint Lucia",
    "MF":  "Saint Martin"
    "VC": "St Vincent and the                 Grenadines",
    "WS": "Samoa",
    "SM":  "San Marino",
    "ST":   "Sao Tome and                       Principe",
    "SA":  "Saudi Arabia",
    "SN": "Senegal",
    "RS":  "Serbia",
    "CS": "Serbia and                          Montenegro",
    "SC": "Seychelles",
    "SL":  "Sierra Leone",
    "SG": "Singapore",
    "SX":  "Sint Maarten",
    "SK":  "Slovakia",
    "SI":   "Slovenia",
    "SB":  "Solomon Islands",
    "SO": "Somalia",
    "ZA": "South Africa",
    "GS": "South Georgia                      South Sandwich                    Islands",
    "SS": "South Sudan",
    "ES": "Spain", 
    "LK": "Sri Lanka",
    "SD": "Sudan",
    "SR": "Suriname",
    "SJ": "Svalbard and Jan                   Mayen",
    "SZ": "Swaziland",
    "SE": "Sweden",
    "CH": "Switzerland",
    "SY": "Syrian Arab                         
Republic",
    "TW": "Taiwan, 
    "TJ":   "Tajikistan",
    "TZ":  "Tanzania
    "TH":  "Thailand",
    "TL":   "Timor-Leste",
    "TG":  "Togo",
    "TK":   "Tokelau",
    "TO":  "Tsonga",
    "TT":   "Trinidad and                         Tobago",
    "TN":  "Tunisia",
    "TR":   "Turkey",
    "TM": "Turkmenistan",
    "TC": "Turks and Caicos 
    "TV": "Tuvalu",
    "UG": "Uganda",
    "UA": "Ukraine",
    "AE": "United Arab                          Emirates",
    "GB": "Great Britain",
    "US": "United States",
    "UM": "United States              Minor Outlying Islands",
    "UY": "Uruguay",
    "UZ": "Uzbekistan",
    "VU": "Vanuatu",
    "VE": "Venezuela",
    "VN": "Viet Nam",
    "VG": "Virgin Islands,                       British",
    "VI":   "Virgin Islands,                       U.S.",
    "WF":  "Wallis and                            Futuna",
    "EH":   "Western Sahara",
    "YE":    "Yemen",
    "ZM":  "Zambia",
    "ZW": "Zimbabwe"

Welcome to a platform of the most high God

bottom of page