top of page

Judges 11 - 12

 Now Jephthah the Gileadite was a mighty man of valour, and he was the son of an harlot: and Gilead begat Jephthah. And Gilead's wife bare him sons; and his wife's sons grew up, and they thrust out Jephthah, and said unto him, Thou shalt not inherit in our father's house; for thou art the son of a strange woman.
Judges 11
11 Now Jephthah the Gileadite was a mighty man of valour, and he was the son of an harlot: and Gilead begat Jephthah.
2 And Gilead's wife bare him sons; and his wife's sons grew up, and they thrust out Jephthah, and said unto him, Thou shalt not inherit in our father's house; for thou art the son of a strange woman.
3 Then Jephthah fled from his brethren, and dwelt in the land of Tob: and there were gathered vain men to Jephthah, and went out with him.
4 And it came to pass in process of time, that the children of Ammon made war against Israel.
5 And it was so, that when the children of Ammon made war against Israel, the elders of Gilead went to fetch Jephthah out of the land of Tob:
6 And they said unto Jephthah, Come, and be our captain, that we may fight with the children of Ammon.
7 And Jephthah said unto the elders of Gilead, Did not ye hate me, and expel me out of my father's house? and why are ye come unto me now when ye are in distress?
8 And the elders of Gilead said unto Jephthah, Therefore we turn again to thee now, that thou mayest go with us, and fight against the children of Ammon, and be our head over all the inhabitants of Gilead.
9 And Jephthah said unto the elders of Gilead, If ye bring me home again to fight against the children of Ammon, and the Lord deliver them before me, shall I be your head?
10 And the elders of Gilead said unto Jephthah, The Lord be witness between us, if we do not so according to thy words.
11 Then Jephthah went with the elders of Gilead, and the people made him head and captain over them: and Jephthah uttered all his words before the Lord in Mizpeh.
12 And Jephthah sent messengers unto the king of the children of Ammon, saying, What hast thou to do with me, that thou art come against me to fight in my land?
13 And the king of the children of Ammon answered unto the messengers of Jephthah, Because Israel took away my land, when they came up out of Egypt, from Arnon even unto Jabbok, and unto Jordan: now therefore restore those lands again peaceably.
14 And Jephthah sent messengers again unto the king of the children of Ammon:
15 And said unto him, Thus saith Jephthah, Israel took not away the land of Moab, nor the land of the children of Ammon:
16 But when Israel came up from Egypt, and walked through the wilderness unto the Red sea, and came to Kadesh;
17 Then Israel sent messengers unto the king of Edom, saying, Let me, I pray thee, pass through thy land: but the king of Edom would not hearken thereto. And in like manner they sent unto the king of Moab: but he would not consent: and Israel abode in Kadesh.
18 Then they went along through the wilderness, and compassed the land of Edom, and the land of Moab, and came by the east side of the land of Moab, and pitched on the other side of Arnon, but came not within the border of Moab: for Arnon was the border of Moab.
19 And Israel sent messengers unto Sihon king of the Amorites, the king of Heshbon; and Israel said unto him, Let us pass, we pray thee, through thy land into my place.
20 But Sihon trusted not Israel to pass through his coast: but Sihon gathered all his people together, and pitched in Jahaz, and fought against Israel.
21 And the Lord God of Israel delivered Sihon and all his people into the hand of Israel, and they smote them: so Israel possessed all the land of the Amorites, the inhabitants of that country.
22 And they possessed all the coasts of the Amorites, from Arnon even unto Jabbok, and from the wilderness even unto Jordan.
23 So now the Lord God of Israel hath dispossessed the Amorites from before his people Israel, and shouldest thou possess it?
24 Wilt not thou possess that which Chemosh thy god giveth thee to possess? So whomsoever the Lord our God shall drive out from before us, them will we possess.
25 And now art thou any thing better than Balak the son of Zippor, king of Moab? did he ever strive against Israel, or did he ever fight against them,
26 While Israel dwelt in Heshbon and her towns, and in Aroer and her towns, and in all the cities that be along by the coasts of Arnon, three hundred years? why therefore did ye not recover them within that time?
27 Wherefore I have not sinned against thee, but thou doest me wrong to war against me: the Lord the Judge be judge this day between the children of Israel and the children of Ammon.
28 Howbeit the king of the children of Ammon hearkened not unto the words of Jephthah which he sent him.
29 Then the Spirit of the Lord came upon Jephthah, and he passed over Gilead, and Manasseh, and passed over Mizpeh of Gilead, and from Mizpeh of Gilead he passed over unto the children of Ammon.
30 And Jephthah vowed a vow unto the Lord, and said, If thou shalt without fail deliver the children of Ammon into mine hands,
31 Then it shall be, that whatsoever cometh forth of the doors of my house to meet me, when I return in peace from the children of Ammon, shall surely be the Lord's, and I will offer it up for a burnt offering.
32 So Jephthah passed over unto the children of Ammon to fight against them; and the Lord delivered them into his hands.
33 And he smote them from Aroer, even till thou come to Minnith, even twenty cities, and unto the plain of the vineyards, with a very great slaughter. Thus the children of Ammon were subdued before the children of Israel.
34 And Jephthah came to Mizpeh unto his house, and, behold, his daughter came out to meet him with timbrels and with dances: and she was his only child; beside her he had neither son nor daughter.
35 And it came to pass, when he saw her, that he rent his clothes, and said, Alas, my daughter! thou hast brought me very low, and thou art one of them that trouble me: for I have opened my mouth unto the Lord, and I cannot go back.
36 And she said unto him, My father, if thou hast opened thy mouth unto the Lord, do to me according to that which hath proceeded out of thy mouth; forasmuch as the Lord hath taken vengeance for thee of thine enemies, even of the children of Ammon.
37 And she said unto her father, Let this thing be done for me: let me alone two months, that I may go up and down upon the mountains, and bewail my virginity, I and my fellows.
38 And he said, Go. And he sent her away for two months: and she went with her companions, and bewailed her virginity upon the mountains.
39 And it came to pass at the end of two months, that she returned unto her father, who did with her according to his vow which he had vowed: and she knew no man. And it was a custom in Israel,
40 That the daughters of Israel went yearly to lament the daughter of Jephthah the Gileadite four days in a year.
Judges 12
12 And the men of Ephraim gathered themselves together, and went northward, and said unto Jephthah, Wherefore passedst thou over to fight against the children of Ammon, and didst not call us to go with thee? we will burn thine house upon thee with fire.
2 And Jephthah said unto them, I and my people were at great strife with the children of Ammon; and when I called you, ye delivered me not out of their hands.
3 And when I saw that ye delivered me not, I put my life in my hands, and passed over against the children of Ammon, and the Lord delivered them into my hand: wherefore then are ye come up unto me this day, to fight against me?
4 Then Jephthah gathered together all the men of Gilead, and fought with Ephraim: and the men of Gilead smote Ephraim, because they said, Ye Gileadites are fugitives of Ephraim among the Ephraimites, and among the Manassites.
5 And the Gileadites took the passages of Jordan before the Ephraimites: and it was so, that when those Ephraimites which were escaped said, Let me go over; that the men of Gilead said unto him, Art thou an Ephraimite? If he said, Nay;
6 Then said they unto him, Say now Shibboleth: and he said Sibboleth: for he could not frame to pronounce it right. Then they took him, and slew him at the passages of Jordan: and there fell at that time of the Ephraimites forty and two thousand.
7 And Jephthah judged Israel six years. Then died Jephthah the Gileadite, and was buried in one of the cities of Gilead.
8 And after him Ibzan of Bethlehem judged Israel.
9 And he had thirty sons, and thirty daughters, whom he sent abroad, and took in thirty daughters from abroad for his sons. And he judged Israel seven years.
10 Then died Ibzan, and was buried at Bethlehem.
11 And after him Elon, a Zebulonite, judged Israel; and he judged Israel ten years.
12 And Elon the Zebulonite died, and was buried in Aijalon in the country of Zebulun.
13 And after him Abdon the son of Hillel, a Pirathonite, judged Israel.
14 And he had forty sons and thirty nephews, that rode on threescore and ten ass colts: and he judged Israel eight years.
15 And Abdon the son of Hillel the Pirathonite died, and was buried in Pirathon in the land of Ephraim, in the mount of the Amalekites.
India hindi

न्यायाधीशों
11 - 12

11 गिलादी यिप्तह एक वीर पुरुष था, और वह एक वेश्या का पुत्र था: और गिलाद ने यिप्तह को जन्म दिया।
2 और गिलाद की पत्नी ने उसके पुत्रों को जन्म दिया; और उसकी पत्नी के पुत्र बड़े हो गए, और उन्होंने यिप्तह को बाहर निकाल दिया, और उससे कहा, तू हमारे पिता के घर में वारिस नहीं होगा; क्योंकि तू एक पराई स्त्री का पुत्र है।
3 तब यिप्तह अपने भाइयों से भाग गया, और तोब देश में रहने लगा: और यिप्तह के पास कुछ दुष्ट लोग इकट्ठे हुए, और उसके साथ घूमने लगे।
4 और ऐसा हुआ कि कुछ समय बाद, अम्मोनियों ने इस्राएल के विरुद्ध युद्ध किया।
5 और ऐसा हुआ कि जब अम्मोनियों ने इस्राएल के विरुद्ध युद्ध किया, तो गिलाद के पुरनिये तोब देश से यिप्तह को लाने गए:
6 और उन्होंने यिप्तह से कहा, आओ, हमारा सरदार बनो, कि हम अम्मोनियों से लड़ें।
7 और यिप्तह ने गिलाद के पुरनियों से कहा, क्या तुम ने मुझ से बैर करके मुझे मेरे पिता के घर से नहीं निकाल दिया? और अब जब तुम संकट में हो, तो मेरे पास क्यों आए हो?
8 और गिलाद के पुरनियों ने यिप्तह से कहा, इसलिए हम अब फिर तेरे पास आते हैं, कि तू हमारे साथ चल, और अम्मोनियों से लड़, और गिलाद के सब निवासियों पर हमारा सरदार हो।
9 और यिप्तह ने गिलाद के पुरनियों से कहा, यदि तुम मुझे अम्मोनियों से लड़ने के लिये फिर से घर ले आओ, और यहोवा उन्हें मेरे हाथ से कर दे, तो क्या मैं तुम्हारा सरदार हो जाऊँगा? 10 गिलाद के पुरनियों ने यिप्तह से कहा, यदि हम तेरे वचन के अनुसार न करें, तो यहोवा हमारे बीच साक्षी रहे।

11 तब यिप्तह गिलाद के पुरनियों के संग गया, और लोगों ने उसे अपना प्रधान और सेनापति बनाया; और यिप्तह ने मिस्पे में यहोवा के सम्मुख अपनी सारी बातें कहीं।

12 और यिप्तह ने अम्मोनियों के राजा के पास दूत भेजकर कहलाया, कि तुझे मुझ से क्या काम कि तू मेरे देश में लड़ने को आया है?

13 अम्मोनियों के राजा ने यिप्तह के दूतों को उत्तर दिया, कि इस्राएलियों ने मिस्र से निकलकर अर्नोन से लेकर यब्बोक और यरदन तक मेरा देश छीन लिया है, इसलिये अब उन देशों को शान्ति से लौटा दे।

14 और यिप्तह ने फिर अम्मोनियों के राजा के पास दूत भेजे:

15 और उससे कहा, यिप्तह यों कहता है, कि इस्राएल ने न तो मोआब का देश छीना, और न अम्मोनियों का देश:

16 परन्तु जब इस्राएल मिस्र से आया, और जंगल में होकर लाल समुद्र तक चला, और कादेश में आया;

17 तब इस्राएल ने एदोम के राजा के पास दूत भेजे, और कहा, मुझे अपने देश में से होकर जाने दे; परन्तु एदोम के राजा ने उनकी न सुनी। और इसी रीति से उन्होंने मोआब के राजा के पास भी दूत भेजे, परन्तु उसने न माना; और इस्राएल कादेश में ही रहा।

18 तब वे जंगल में होकर चले, और एदोम और मोआब के देश का चक्कर लगाया, और मोआब के देश के पूर्व की ओर आकर अर्नोन के परली ओर डेरे डाले, परन्तु मोआब की सीमा के भीतर न आए: क्योंकि अर्नोन मोआब की सीमा थी।

19 और इस्राएल ने एमोरियों के राजा सीहोन के पास, जो हेशबोन का राजा था, दूत भेजे; और इस्राएल ने उससे कहा, हमें अपने देश से होकर मेरे स्थान पर जाने दे।

20 परन्तु सीहोन ने इस्राएल पर भरोसा न किया कि वह उसके देश से होकर जाएगा; परन्तु सीहोन ने अपनी सारी प्रजा को इकट्ठा करके यहाज में डेरा डाला, और इस्राएल से लड़ा।

21 और इस्राएल के परमेश्वर यहोवा ने सीहोन और उसकी सारी प्रजा को इस्राएल के हाथ में कर दिया, और उन्होंने उनको मार डाला; इस प्रकार इस्राएल ने उस देश के निवासी एमोरियों के सारे देश पर अधिकार कर लिया।

22 और उन्होंने अर्नोन से लेकर यब्बोक तक, और जंगल से लेकर यरदन तक एमोरियों के सारे देश पर अधिकार कर लिया।

23 अब इस्राएल के परमेश्वर यहोवा ने अपनी प्रजा इस्राएल के साम्हने से एमोरियों को निकाल दिया है, तो क्या तू उस देश पर अधिकार करना चाहता है?

24 क्या तू उस देश पर अधिकार नहीं करेगा जिसे तेरा परमेश्वर कमोश तुझे अधिकार करने को देता है? इसलिए जिस किसी को हमारा परमेश्वर यहोवा हमारे सामने से निकाल देगा, हम उसे अपने अधिकार में कर लेंगे।

25 और अब क्या तू मोआब के राजा सिप्पोर के पुत्र बालाक से कुछ बढ़कर है? क्या उसने कभी इस्राएल के विरुद्ध लड़ाई की, या उनसे युद्ध किया?

26 जब इस्राएल हेशबोन और उसके नगरों में, और अरोएर और उसके नगरों में, और अर्नोन के तट के पास के सब नगरों में तीन सौ वर्ष तक बसा रहा? तो फिर उस समय के भीतर तूने उन्हें क्यों नहीं छुड़ाया?

27 इस कारण मैं ने तेरे विरुद्ध पाप नहीं किया, परन्तु तू मेरे विरुद्ध युद्ध करके मुझे अन्याय करता है; यहोवा न्यायी आज इस्राएलियों और अम्मोनियों के बीच न्याय करे।

28 तौभी अम्मोनियों के राजा ने यिप्तह की बातें न मानीं जो उसने उसके पास भेजी थीं।

29 तब यहोवा का आत्मा यिप्तह में समाया, और वह गिलाद और मनश्शे से होते हुए गिलाद के मिस्पे से होते हुए अम्मोनियों के पास गया।
30 और यिप्तह ने यहोवा से यह मन्नत मानी, और कहा, यदि तू अम्मोनियों को मेरे हाथ में अवश्य कर दे,
31 तो जब मैं अम्मोनियों के पास से कुशल से लौट आऊँगा, तब जो कोई मेरे घर के द्वार से मेरी भेंट के लिये निकले, वह निश्चय यहोवा का होगा, और मैं उसे होमबलि करके चढ़ाऊँगा।

32 तब यिप्तह अम्मोनियों के विरुद्ध लड़ने के लिये उनके पास गया; और यहोवा ने उन्हें उसके हाथ में कर दिया।
33 और उसने अरोएर से लेकर मिन्नीत तक, अर्थात् बीस नगरों तक, और दाख की बारियों के मैदान तक, उन्हें बहुत मार डाला। इस प्रकार अम्मोनियों को इस्राएलियों के सामने परास्त कर दिया गया।
34 और यिप्तह मिस्पे में अपने घर आया, और क्या देखा, कि उसकी बेटी डफ और नाचती हुई उससे भेंट करने को निकली; और वह उसकी एकलौती सन्तान थी; उसके सिवा उसके न तो कोई बेटा था, न बेटी।
35 और ऐसा हुआ, जब उसने उसे देखा, तो उसने अपने कपड़े फाड़ लिये, और कहा, हाय, मेरी बेटी! तूने मुझे बहुत गिरा दिया है, और तू भी मेरे सतानेवालों में से एक है: क्योंकि मैंने यहोवा से अपनी बात कही है, और मैं पीछे नहीं हट सकता।
36 और उसने उससे कहा, हे मेरे पिता, यदि तूने यहोवा से प्रार्थना की है, तो जो कुछ तेरे मुंह से निकला है, उसके अनुसार मेरे साथ व्यवहार कर; क्योंकि यहोवा ने तेरे शत्रुओं अर्थात् अम्मोनियों से तेरा पलटा लिया है।

37 और उसने अपने पिता से कहा, मेरे लिये यह किया जाए: मुझे दो महीने तक अकेला छोड़ दे, कि मैं और मेरी सहेलियाँ पहाड़ों पर चढ़ती-उतरती फिरें, और अपने कुँवारेपन पर विलाप करें।

38 और उसने कहा, जा। और उसने उसे दो महीने के लिये विदा किया: और वह अपनी सहेलियों के साथ चली गई, और पहाड़ों पर अपने कुँवारेपन पर विलाप करती रही।

39 और दो महीने के बीतने पर वह अपने पिता के पास लौट आई, और उसने उसके साथ अपनी मन्नत के अनुसार किया जो उसने मानी थी: और वह किसी पुरुष से नहीं मिली। और इस्राएल में यह रीति थी,

40 कि इस्राएल की बेटियाँ प्रति वर्ष चार दिन गिलादी यिप्तह की बेटी के लिये विलाप करने जाती थीं।

12 तब एप्रैम के लोग इकट्ठे हुए, और उत्तर की ओर जाकर यिप्तह से कहने लगे, तू अम्मोनियों से लड़ने को क्यों गया, और हमें संग चलने को क्यों नहीं बुलाया? हम तेरे घर को आग लगाकर जला देंगे।

2 तब यिप्तह ने उनसे कहा, मैं और मेरी प्रजा अम्मोनियों से बड़ा झगड़ा कर रहे थे; और जब मैं ने तुम को बुलाया, तब तुम ने मुझे उनके हाथ से न बचाया।

3 और जब मैं ने देखा कि तुम ने मुझे नहीं बचाया, तब मैं अपने प्राणों पर खेलकर अम्मोनियों के विरुद्ध पार गया, और यहोवा ने उन्हें मेरे हाथ में कर दिया; फिर तुम आज मेरे विरुद्ध लड़ने को क्यों आए हो?

4 तब यिप्तह ने गिलाद के सब लोगों को इकट्ठा करके एप्रैमियों से युद्ध किया; और गिलाद के लोगों ने एप्रैमियों को मार डाला, क्योंकि उन्होंने कहा था, हे गिलादियों, तुम एप्रैमियों और मनश्शेइयों के बीच एप्रैम के भगोड़े हो।

5 और गिलादियों ने एप्रैमियों के आगे यरदन के मार्ग पर अधिकार कर लिया: और ऐसा हुआ कि जब उन एप्रैमियों ने जो बच गए थे कहा, हमें पार जाने दो; तब गिलाद के लोगों ने उससे पूछा, क्या तू एप्रैमी है? यदि उसने कहा, नहीं; 6 तब उन्होंने उससे कहा, अब शिब्बोलेत कहो: और उसने कहा सिब्बोलेत: क्योंकि वह ठीक से उच्चारण नहीं कर सकता था। तब उन्होंने उसे पकड़कर यरदन के मार्ग पर मार डाला: और उस समय एप्रैमियों में से बयालीस हजार लोग मारे गए। 7 और यिप्तह ने छः वर्ष तक इस्राएल का न्याय किया। तब गिलादी यिप्तह मर गया, और उसे गिलाद के एक नगर में मिट्टी दी गई। 8 और उसके बाद बेतलेहेम के इबसान ने इस्राएल का न्याय किया। 9 और उसके तीस बेटे और तीस बेटियाँ थीं, जिन्हें उसने विदेश भेज दिया, और अपने बेटों के लिए विदेश से तीस बेटियाँ मँगवाईं। और उसने इस्राएल का सात वर्ष तक न्याय किया। 10 तब इबसान की मृत्यु हो गई, और उसे बेतलेहेम में दफ़नाया गया।

11 उसके बाद एलोन नामक एक जबूलोनी ने इस्राएल का न्याय किया; और उसने इस्राएल का न्याय दस वर्ष तक किया।

12 एलोन नामक जबूलोनी मर गया, और उसे जबूलून के देश के अय्यालोन में दफ़नाया गया।

13 उसके बाद हिल्लेल का पुत्र अब्दोन, जो पिरातोनी था, इस्राएल का न्याय करने लगा।

14 उसके चालीस बेटे और तीस भतीजे थे, जो सत्तर गदहियों के बच्चों पर सवार होते थे: और उसने इस्राएल का न्याय आठ वर्ष तक किया।

15 हिल्लेल का पुत्र अब्दोन, जो पिरातोनी था, मर गया, और उसे एप्रैम के देश के पिरातोन में, अमालेकियों के पहाड़ पर दफ़नाया गया।

भगवान का साम्राज्य

भगवान का साम्राज्य

परन्तु जब तुम प्रार्थना करो, तो अन्यजातियों की नाईं व्यर्थ न दोहराओ; क्योंकि वे समझते हैं, कि उनके अधिक बोलने से हमारी सुनी जाएगी।
इसलिये तुम उनके समान न बनो; क्योंकि तुम्हारा पिता तुम्हारे मांगने से पहिले ही जानता है, कि तुम्हें किस वस्तु की क्या आवश्यकता है।
इस रीति से तुम प्रार्थना करो:

स्वर्ग में कला करनेवाले जो हमारे पिता,
पवित्र हो तेरा नाम।
तुम्हारा राज्य आओ।
तेरी इच्छा पृथ्वी पर पूरी हो

जैसे यह स्वर्ग में है,
हमें इस दिन हमारी रोज़ की रोटी दें।
और हमारे अपराधों और पापों को क्षमा कर;
जैसा कि हम उन सभी के लिए प्रार्थना करते हैं जो अतिक्रमण करते हैं

या हमारे विरुद्ध पाप करो।
और हमें प्रलोभन में न ले जाओ,

परन्तु हमें सब विपत्तियों से बचा
क्योंकि राज्य तेरा है
सारी शक्ति और सारी महिमा
हमेशा हमेशा के लिए

अपना प्रार्थना अनुरोध या किसी भी प्रकार का प्रकाशित अभिवादन या सिर्फ आशीर्वाद देने के लिए कृपया ईमेल करें...

Admin@JesusChristOfNazareth.COM

हे प्रियो, हर एक आत्मा पर विश्वास न करो, वरन् आत्माओं को परखो कि वे परमेश्वर की ओर से हैं कि नहीं; क्योंकि बहुत से झूठे भविष्यद्वक्ता जगत में निकल खड़े हुए हैं। परमेश्वर की आत्मा को तुम इसी से पहचान सकते हो: जो कोई आत्मा मान लेती है कि यीशु मसीह देह में होकर आया है, वह परमेश्वर की ओर से है: और जो कोई आत्मा नहीं मान लेती कि यीशु मसीह देह में होकर आया है, वह परमेश्वर की ओर से नहीं: और यही मसीह विरोधी की आत्मा है, जिसके विषय में तुम सुन चुके हो कि वह आनेवाली है, और अब भी जगत में है। हे बालकों, तुम परमेश्वर के हो, और तुम ने उन पर जय पाई है, क्योंकि जो तुम में है, वह उस से जो संसार में है, बड़ा है। वे संसार के हैं, इसलिये वे संसार की बातें बोलते हैं, और संसार उनकी सुनता है। हम परमेश्वर के हैं: जो परमेश्वर को जानता है, वह हमारी सुनता है; जो परमेश्वर का नहीं है, वह हमारी नहीं सुनता। इसी से हम सत्य की आत्मा और भ्रम की आत्मा को पहचान सकते हैं। हे प्रियो, हम एक दूसरे से प्रेम रखें: क्योंकि प्रेम परमेश्वर से है; और जो कोई प्रेम करता है, वह परमेश्वर से जन्मा है, और परमेश्वर को जानता है। 1. यूहन्ना 4:1-7

    "AF":  "Afghanistan",
    "AX":  "Aland Islands",
    "AL":   "Albania",
    "DZ":  "Algeria",
     AS":  "American                             Samoa", 
    "AD": "Andorra",
    "AO": "Angola",
    "AI":   "Anguilla",
    "AQ": "Antarctica",
    "AG": "Antigua and                         Barbuda",
    "AR": "Argentina", 
    "AM": "Armenia",   
    "AW": "Aruba",
    "AU": "Australia",
    "AT": "Austria", 
    "AZ": "Azerbaijan",
    "BS": "Bahamas",
    "BH": "Bahrain",
    "BD": "Bangladesh",
    "BB": "Barbados",
    "BY": "Belarus",
    "BE": "Belgium",
    "BZ": "Belize",
    "BJ":  "Benin",
    "BM": "Bermuda",
    "BT":  "Bhutan",
    "BO": "Bolivia",
    "BQ": "Bonaire, Sint                Eustatius and Saba",
    "BA":  "Bosnia and hertz.      "BW": "Botswana",
    "BV":  "Bouvet Island",
    "BR":  "Brazil",
    "IO":  "British Indian                         Ocean 
    "BN": "Brunei                                   Darussalam",     

    "BG":  "Bulgaria",
     "BF": "Burkina Faso",
     "BI": "Burundi",
     "KH": "Cambodia",
    "CM": "Cameroon",
    "CA":  "Canada",
    "CV":  "Cape Verde",
    "KY":  "Cayman Islands",
    "CF":  "Central                                 African Rep.
    "TD":  "Chad",
    "CL":  "Chile",
    "CN": "China",
    "CX": "Christmas Island",
    "CC": "Cocos                        (Keeling) Islands",
    "CO": "Colombia",
    "KM": "Comoros",
    "CG": "Congo",
    "CD": "Congo, the                           Democratic R
    "CK": "Cook Islands",
    "CR": "Costa Rica",
    "CI": "Cote D'Ivoire",
    "HR": "Croatia",
    "CU": "Cuba",
    "CW": "Curacao",
    "CY": "Cyprus" G
    "CY" "Cyprus" T
    "CZ": "Czech Republic",
    "DK": "Denmark",
    "DJ": "Djibouti",
    "DM": "Dominica",
    "DO": "Dominican                           Republic",
    "EC": "Ecuador",
    "EG":  "Egypt",
    "SV":   "El Salvador",
    "GQ": "Equatorial                           Guinea",
    "ER":   "Eritrea",
    "EE":   "Estonia",
    "ET":   "Ethiopia",
    "FK":   "Falkland Islands 
    "FO":   "Faroe Islands",
    "FJ":    "Fiji",
    "FI":    "Finland",
    "FR":   "France",
    "GF":  "French Guiana",
    "PF":   "French Polynesia",
    "TF":   "French Southern T 
    "GA": "Gabon",
    "GM": "Gambia",
    "GE":  "Georgia",
    "DE":  "Germany",
    "GH": "Ghana",
    "GI":  "Gibraltar",
    "GR": "Greece",
    "GL": "Greenland",
    "GD": "Grenada",
    "GP": "Guadeloupe",
    "GU": "Guam",
    "GT": "Guatemala",
    "GG": "Guernsey",
    "GN": "Guinea",
    "GW": "Guinea-Bissau",
    "GY":  "Guyana",
    "HT":  "Haiti",
    "VA": "Holy See
    "HN": "Honduras",
    "HK": "Hong Kong",
    "HU": "Hungary",
    "IS":   "Iceland",
    "IN":  "India",
    "ID":   "Indonesia",
    "IR":   "Iran, ,
    "IQ":  "Iraq",
    "IE":   "Ireland",
    "IM":  "Isle of Man",
    "IL":    "Israel",
    "IT":   "Italy",
    "JM":  "Jamaica",
    "JP":    "Japan",
    "JE":    "Jersey",
    "JO":   "Jordan",
    "KZ":   "Kazakhstan",
    "KE":   "Kenya",
    "KI":    "Kiribati",
    "KP":   "Korea, D.P.R.
    "KR":   "Korea,
    "XK":   "Kosovo",
    "KW": "Kuwait",
    "KG":  "Kyrgyzstan",
    "LA":   "Lao P.D.R.
    "LV":   "Latvia",
    "LB":   "Lebanon",
    "LS":   "Lesotho",
    "LR":   "Liberia",
    "LY":   "Libyan Arab              "LI":    "Liechtenstein",
    "LT":   "Lithuania",
    "LU":  "Luxembourg",
    "MO": "Macao",
    "MK":  "Macedonia
    "MG": "Madagascar",
    "MW": "Malawi",
    "MY":  "Malaysia",
    "MV":  "Maldives",
    "ML":   "Mali",
    "MT":   "Malta",
    "MH":  "Marshall Islands",
    "MQ": "Martinique",
    "MR":  "Mauritania",
    "MU": "Mauritius",
    "YT":   "Mayotte",
    "MX":  "Mexico",
    "FM":  "Micronesia,
    "MD": "Moldova, ",
    "MC": "Monaco",
    "MN": "Mongolia",
    "ME":  "Montenegro",
    "MS":  "Montserrat",
    "MA": "Morocco",
    "MZ": "Mozambique",
    "MM": "Myanmar",
    "NA":  "Namibia",
    "NR":  "Nauru",
    "NP": "Nepal",
    "NL": "Netherlands",
    "AN": "Netherlands                         Antilles",
    "NC": "New Caledonia",
    "NZ": "New Zealand",
    "NI":  "Nicaragua",
    "NE": "Niger",
    "NG": "Nigeria",
    "NU": "Niue",
    "NF": "Norfolk Island",
    "MP": "Northern Mariana                 Islands",
    "NO": "Norway",
    "OM": "Oman",
    "PK":   "Pakistan",
    "PW":  "Palau",
    "PS":   "Palestinian                           Territory, 
    "PA":   "Panama",
    "PG": "Papua New                          Guinea",
    "PY": "Paraguay",
    "PE": "Peru",
    "PH": "Philippines",
    "PN": "Pitcairn",
    "PL":   "Poland",
    "PT":   "Portugal",
    "PR":   "Puerto Rico",
    "QA":  "Qatar",
    "RE":   "Reunion",
    "RO":  "Romania",
    "RU":   "Russian                                Federation",
    "RW":  "Rwanda",
    "BL":    "Saint Barthelemy",
    "SH":   "Saint Helena",
    "KN":   "Saint Kitts and                       Nevis",
    "LC":   "Saint Lucia",
    "MF":  "Saint Martin"
    "VC": "St Vincent and the                 Grenadines",
    "WS": "Samoa",
    "SM":  "San Marino",
    "ST":   "Sao Tome and                       Principe",
    "SA":  "Saudi Arabia",
    "SN": "Senegal",
    "RS":  "Serbia",
    "CS": "Serbia and                          Montenegro",
    "SC": "Seychelles",
    "SL":  "Sierra Leone",
    "SG": "Singapore",
    "SX":  "Sint Maarten",
    "SK":  "Slovakia",
    "SI":   "Slovenia",
    "SB":  "Solomon Islands",
    "SO": "Somalia",
    "ZA": "South Africa",
    "GS": "South Georgia                      South Sandwich                    Islands",
    "SS": "South Sudan",
    "ES": "Spain", 
    "LK": "Sri Lanka",
    "SD": "Sudan",
    "SR": "Suriname",
    "SJ": "Svalbard and Jan                   Mayen",
    "SZ": "Swaziland",
    "SE": "Sweden",
    "CH": "Switzerland",
    "SY": "Syrian Arab                         
Republic",
    "TW": "Taiwan, 
    "TJ":   "Tajikistan",
    "TZ":  "Tanzania
    "TH":  "Thailand",
    "TL":   "Timor-Leste",
    "TG":  "Togo",
    "TK":   "Tokelau",
    "TO":  "Tsonga",
    "TT":   "Trinidad and                         Tobago",
    "TN":  "Tunisia",
    "TR":   "Turkey",
    "TM": "Turkmenistan",
    "TC": "Turks and Caicos 
    "TV": "Tuvalu",
    "UG": "Uganda",
    "UA": "Ukraine",
    "AE": "United Arab                          Emirates",
    "GB": "Great Britain",
    "US": "United States",
    "UM": "United States              Minor Outlying Islands",
    "UY": "Uruguay",
    "UZ": "Uzbekistan",
    "VU": "Vanuatu",
    "VE": "Venezuela",
    "VN": "Viet Nam",
    "VG": "Virgin Islands,                       British",
    "VI":   "Virgin Islands,                       U.S.",
    "WF":  "Wallis and                            Futuna",
    "EH":   "Western Sahara",
    "YE":    "Yemen",
    "ZM":  "Zambia",
    "ZW": "Zimbabwe"

bottom of page