top of page

Ye are the light of the world. A city that is set on an hill cannot be hid.

HOLY BIBLE
Genesis 1 - 2
In the beginning, God created the heaven and the earth.
And the earth was without form and void, and darkness was upon the face of the deep. And the Spirit of God moved upon the face of the waters.
And God said, Let there be light: and there was light.
And God saw the light, that it was good: and God divided the light from the darkness.
Sermon on the Mount.png

I AM, The Almighty Father God, I AM, The Universal Creator. In the beginning, I, The Almighty Father God created the heaven and the earth. The Scriptures make it very clear that… In the beginning was the Word, and the Word was with God, and the Word was God. The commonly written word goes on to declare. The same was in the beginning with God. It also states, all things were made by him; and without him was not anything made that was made. There was life in him; and the life was the light of men. And the light shineth in darkness; and the darkness comprehended it not. Therefore, as I AM, The Universal Creator the life of the “Word” and every letter of life of the words contained within THE HOLY BIBLE “WORD” contained within the light of men, is my personally owned private property regardless of any order presumed or assumed intended use, they are my commonly used and protected at a huge cost property, owned, designed, made, and created as the “Word of God” by me.

Many corrupt my property on dark public platforms and deliver my words to unsuspecting others in many different ways, this will not be tolerated much longer. Therefore, I will soon scramble the tongs and hands of anyone speaking or writing any commonly known letter or word as an untruth to another. To prevent their dark communications. Even words or signs written or spoken behind closed doors will not become exempt. The six thousand years of longsuffering lies of the Devil are now loosened and bound in heaven. They will soon become scrambled forever and be loosened and bound universally on earth as it is in heaven.

Genesis 1
In the beginning, God created the heaven and the earth.
2 And the earth was without form and void, and darkness was upon the face of the deep. And the Spirit of God moved upon the face of the waters.
3 And God said, Let there be light: and there was light.
4 And God saw the light, that it was good: and God divided the light from the darkness.
5 And God called the light Day, and the darkness he called Night. And the evening and the morning were the first day.
6 And God said, Let there be a firmament in the midst of the waters, and let it divide the waters from the waters.
7 And God made the firmament, and divided the waters which were under the firmament from the waters which were above the firmament: and it was so.
8 And God called the firmament Heaven. And the evening and the morning were the second day.
9 And God said, Let the waters under the heaven be gathered together unto one place, and let the dry land appear: and it was so.
10 And God called the dry land Earth, and the gathering together of the waters called he Seas: and God saw that it was good.
11 And God said, Let the earth bring forth grass, the herb yielding seed, and the fruit tree yielding fruit after his kind, whose seed is in itself, upon the earth: and it was so.
12 And the earth brought forth grass, and herb yielding seed after his kind, and the tree yielding fruit, whose seed was in itself, after his kind: and God saw that it was good.
13 And the evening and the morning were the third day.
14 And God said, Let there be lights in the firmament of the heaven to divide the day from the night; and let them be for signs, and for seasons, and for days, and years:
15 And let them be for lights in the firmament of the heaven to give light upon the earth: and it was so.
16 And God made two great lights; the greater light to rule the day, and the lesser light to rule the night: he made the stars also.
17 And God set them in the firmament of the heaven to give light upon the earth,
18 And to rule over the day and over the night, and to divide the light from the darkness: and God saw that it was good.
19 And the evening and the morning were the fourth day.
20 And God said, Let the waters bring forth abundantly the moving creature that hath life, and fowl that may fly above the earth in the open firmament of heaven.
21 And God created great whales, and every living creature that moveth, which the waters brought forth abundantly, after their kind, and every winged fowl after his kind: and God saw that it was good.
22 And God blessed them, saying, Be fruitful, and multiply, and fill the waters in the seas, and let fowl multiply in the earth.
23 And the evening and the morning were the fifth day.
24 And God said, Let the earth bring forth the living creature after his kind, cattle, and creeping thing, and beast of the earth after his kind: and it was so.
25 And God made the beast of the earth after his kind, and cattle after their kind, and everything that creepeth upon the earth after his kind: and God saw that it was good.
26 And God said, Let us make man in our image, after our likeness: and let them have dominion over the fish of the sea, and over the fowl of the air, and over the cattle, and over all the earth, and over every creeping thing that creepeth upon the earth.
27 So God created man in his own image, in the image of God created he him; male and female created he them.
28 And God blessed them, and God said unto them, Be fruitful, and multiply, and replenish the earth, and subdue it: and have dominion over the fish of the sea, and over the fowl of the air, and over every living thing that moveth upon the earth.
29 And God said, Behold, I have given you every herb bearing seed, which is upon the face of all the earth, and every tree, in the which is the fruit of a tree yielding seed; to you it shall be for meat.
30 And to every beast of the earth, and to every fowl of the air, and to everything that creepeth upon the earth, wherein there is life, I have given every green herb for meat: and it was so.
31 And God saw everything that he had made, and, behold, it was very good. And the evening and the morning were the sixth day.
Genesis 2
Thus the heavens and the earth were finished, and all the host of them.
2 And on the seventh day God ended his work which he had made, and he rested on the seventh day from all his work which he had made.
3 And God blessed the seventh day, and sanctified it: because that in it he had rested from all his work which God created and made.
4 These are the generations of the heavens and of the earth when they were created, in the day that the Lord God made the earth and the heavens,
5 And every plant of the field before it was in the earth, and every herb of the field before it grew: for the Lord God had not caused it to rain upon the earth, and there was not a man to till the ground.
6 But there went up a mist from the earth and watered the whole face of the ground.
7 And the Lord God formed man of the dust of the ground, and breathed into his nostrils the breath of life, and man became a living soul.
8 And the Lord God planted a garden eastward in Eden, and there he put the man whom he had formed.
9 And out of the ground made the Lord God to grow every tree that is pleasant to the sight, and good for food; the tree of life also in the midst of the garden, and the tree of knowledge of good and evil.
10 And a river went out of Eden to water the garden, and from thence it was parted, and became into four heads.
11 The name of the first is Pison: that is it which compasseth the whole land of Havilah, where there is gold;
12 And the gold of that land is good: there is bdellium and the onyx stone.
13 And the name of the second river is Gihon: the same is it that compasseth the whole land of Ethiopia.
14 And the name of the third river is Hiddekel: that is it which goeth toward the east of Assyria. The fourth river is Euphrates.
15 And the Lord God took the man and put him into the garden of Eden to dress it and to keep it.
16 And the Lord God commanded the man, saying, Of every tree of the garden thou mayest freely eat:
17 But of the tree of the knowledge of good and evil, thou shalt not eat of it: for in the day that thou eatest thereof thou shalt surely die.
18 And the Lord God said, It is not good that the man should be alone; I will make him a help meet for him.
19 And out of the ground the Lord God formed every beast of the field, and every fowl of the air; and brought them unto Adam to see what he would call them: and whatsoever Adam called every living creature, that was the name thereof.
20 And Adam gave names to all cattle, and to the fowl of the air, and to every beast of the field; but for Adam, there was not found a help meet for him.
21 And the Lord God caused a deep sleep to fall upon Adam, and he slept: and he took one of his ribs, and closed up the flesh instead thereof;
22 And the rib, which the Lord God had taken from man, made he a woman and brought her unto the man.
23 And Adam said, This is now bone of my bones and flesh of my flesh: she shall be called Woman because she was taken out of Man.
24 Therefore shall a man leave his father and his mother, and shall cleave unto his wife: and they shall be one flesh.
25 And they were both naked, the man and his wife, and were not ashamed.

Ephesians 5: 10- 15
AKJV

Proving what is acceptable unto the Lord. And have no fellowship with the unfruitful works of darkness, but rather reprove them. For it is a shame even to speak of those things which are done of them in secret. But all things that are reproved are made manifest by the light: for whatsoever doth make manifest is light. Wherefore he saith, Awake thou that sleepest, and arise from the dead, and Christ shall give thee light. See then that ye walk circumspectly, not as fools, but as wise, 

What is the gospel everyone is talking about?

The word "Gospel" is a word that is often abused in today's dictionaries to feed false information about its real Godly meaning to everyone of us, such as in GOOGLE listings. See how many so called honourable claiming organizations spread the untruthful chaos and confusion of the Word of God using the Devils lies. Very often confusing the vast majority of the entire world population.

 

 

 

"Gospel" The real meaning which is "Good News"

 

The word "Kingdom" is another word that is often unfaithfully used against God by Satanic dictionary descriptions to feed a false Biblical teaching. Tale a look at the popular dictionaries in GOOGLE listings and see how many so called honourable organizations spread the Devils lies simply by often confusing the entire populations. They use the word Kingdom to mean "a country or region that is ruled by a king or queen". or  "the spiritual realm over which God reigns as king, or the fulfilment on Earth of God's will. " these are two amongst many hundreds of lies instituted by the Devil (Satan) 

"Kingdom" WHO'S REAL MEANING IS "Government"

So it is accurate to report the

"Gospel"
Jesus Christ taught us all truthfully is...  the faithful...
Good News of the forthcoming  "Government" Of God.

gospel 2.png

How GOOGLE 'S
misleading THE WHOLE WORLD?
A  LIE FROM THE DEVIL HIMSELF


The real "gospel" (forthcoming good news) meaning, Jesus taught us all over 2000 tears ago is now exposed. for all of us to fully understand

Click image to read better.

Hover over with your mouse to pause.

भारत हिन्दी
उत्पत्ति 1 - 2

1.आरंभ में, परमेश्वर ने स्वर्ग और पृथ्वी की रचना की।
2 और पृय्वी निराकार और सुनसान हो गई, और गहिरे जल के ऊपर अन्धियारा छा गया। और परमेश्वर का आत्मा जल के ऊपर चला गया।
3 और परमेश्वर ने कहा, उजियाला हो: और उजियाला हो गया।
4 और परमेश्वर ने उजियाले को देखा, कि अच्छा है; और परमेश्वर ने उजियाले को अन्धियारे से अलग कर दिया।
5 और परमेश्वर ने उजियाले को दिन कहा, और अन्धियारे को रात कहा। और सांझ और भोर पहला दिन थे।
6 और परमेश्वर ने कहा, जल के बीच में एक आकाशमण्डल हो, और वह जल को दो भाग करे।
7 और परमेश्वर ने आकाश बनाया, और आकाश के नीचे के जल को आकाश के ऊपर के जल से अलग कर दिया; और वैसा ही हो गया।
8 और परमेश्वर ने आकाश को स्वर्ग कहा। और दूसरे दिन सांझ और भोर हुई।
9 और परमेश्वर ने कहा, आकाश के नीचे का जल एक स्यान में इकट्ठा हो जाए, और सूखी भूमि दिखाई दे; और वैसा ही हो गया।
10 और परमेश्वर ने सूखी भूमि को पृय्वी कहा, और जो जल इकट्ठा हुआ उसका नाम समुद्र रखा: और परमेश्वर ने देखा, कि अच्छा है।
11 और परमेश्वर ने कहा, पृय्वी से घास, और बीज वाले छोटे छोटे पेड़, और फलदाई वृक्ष, जिनके बीज उसी में एक एक जाति के अनुसार होते हैं, पृय्वी पर उगें; और वैसा ही हो गया।
12 और पृय्वी से एक एक जाति के अनुसार घास, और छोटे छोटे बीजवाले पेड़, और फलदाई वृक्ष भी उगे, जिनके बीज एक एक जाति के अनुसार होते थे; और परमेश्वर ने देखा, कि अच्छा हुआ।
13 और सांझ और भोर को तीसरा दिन हुआ।
14 और परमेश्वर ने कहा, दिन को रात से अलग करने के लिये आकाश के अन्तर में ज्योतियां हों; और वे चिन्हों, और नियत समयों, और दिनों, और वर्षोंके लिथे ठहरें;
15 और वे ज्योतियां आकाश के अन्तर में पृय्वी पर उजियाला देने के लिये ठहरें; और वैसा ही हो गया।
16 और परमेश्वर ने दो बड़ी ज्योतियां बनाईं; दिन पर प्रभुता करने के लिये बड़ी ज्योति, और रात पर प्रभुता करने के लिये छोटी ज्योति: उस ने तारे भी बनाए।
17 और परमेश्वर ने उन्हें पृय्वी पर प्रकाश देने के लिथे आकाश के अन्तर में स्थापित किया,
18 और दिन और रात पर प्रभुता करो, और उजियाले को अन्धियारे से अलग करो: और परमेश्वर ने देखा, कि अच्छा है।
19 और सांझ और भोर को चौथा दिन हुआ।
20 और परमेश्वर ने कहा, जल से बहुत से रेंगनेवाले जन्तु, और पक्षी बहुत उगें, जो पृय्वी के ऊपर से आकाश के आकाश में उड़ें।
21 और परमेश्वर ने बड़ी बड़ी मछलियाँ, और सब रेंगनेवाले जन्तु, जो जल से बहुतायत से निकलते थे, एक एक जाति के अनुसार, और एक एक जाति के सब पक्षियों की भी सृष्टि की; और परमेश्वर ने देखा, कि अच्छा हुआ।
22 और परमेश्वर ने उनको आशीष देते हुए कहा, फूलो-फलो, और समुद्र का जल भर जाओ, और पक्षी पृय्वी पर बहुत बढ़ जाओ।
23 और सांझ और भोर को पांचवां दिन हुआ।
24 और परमेश्वर ने कहा, पृय्वी से एक एक जाति के जीवित प्राणी, अर्थात घरेलू पशु, और रेंगनेवाले जन्तु, और पृय्वी पर एक एक जाति के वनपशु उत्पन्न हों: और वैसा ही हो गया।
25 और परमेश्वर ने पृय्वी के एक एक जाति के वनपशु को, और एक एक जाति के अनुसार घरेलू पशुओं को, और एक एक जाति के अनुसार पृय्वी पर रेंगनेवाले सब जन्तुओं को बनाया; और परमेश्वर ने देखा, कि अच्छा हुआ।
26 और परमेश्वर ने कहा, हम मनुष्य को अपने स्वरूप के अनुसार अपनी समानता में बनाएं, और वे समुद्र की मछलियों, और आकाश के पक्षियों, और घरेलू पशुओं, और सारी पृय्वी पर, और सब पर प्रभुता करें। सब रेंगनेवाले प्राणी जो पृय्वी पर रेंगते हैं।
27 इसलिये परमेश्वर ने मनुष्य को अपने स्वरूप के अनुसार उत्पन्न किया, परमेश्वर ने अपने स्वरूप के अनुसार उसे उत्पन्न किया; नर और मादा ने उन्हें बनाया।
28 और परमेश्वर ने उन्हें आशीष दी, और परमेश्वर ने उन से कहा, फूलो-फलो, और पृय्वी में भर जाओ, और उसे अपने वश में कर लो; और समुद्र की मछलियों, और आकाश के पक्षियों, और सब जीवित प्राणियोंपर प्रभुता रखो। जो पृथ्वी पर चलता है.
29 और परमेश्वर ने कहा, सुन, जितने बीज वाले छोटे छोटे पेड़ सारी पृय्वी के ऊपर हैं, और जितने वृक्षों में बीज वाले फल लगते हैं, वे सब मैं ने तुझे दिया है; तुम्हारे लिये वह मांस ही ठहरेगा।
30 और पृय्वी के सब पशुओं, और आकाश के सब पक्षियों, और पृय्वी पर रेंगनेवाले जन्तुओं, जिन में जीवन है, उन सभों को मैं ने खाने के लिथे सब हरी घास दी है; और वैसा ही हो गया।
31 और परमेश्वर ने जो कुछ उस ने बनाया या, उस सब को देखा, और क्या देखा, कि वह बहुत अच्छा है। और सांझ और भोर छठा दिन था।

2.इस प्रकार आकाश और पृय्वी और उनकी सारी सेना का अन्त हो गया।
2 और सातवें दिन परमेश्वर ने अपना सब काम पूरा किया, जो उस ने किया या; और सातवें दिन उस ने अपना सब काम पूरा करके विश्राम किया।
3 और परमेश्वर ने सातवें दिन को आशीष दी, और उसे पवित्र ठहराया; क्योंकि उस में उस ने अपके सारे काम से, जो परमेश्वर ने रचा और बनाया, विश्राम किया।
4 आकाश और पृय्वी की पीढ़ियां ये हैं जब वे बनाई गईं, अर्थात जिस समय यहोवा परमेश्वर ने पृय्वी और आकाश को बनाया,
5 और मैदान का सब पौधा पहिले भूमि में था, और मैदान की सब छोटी घास उगने से पहिले थी; क्योंकि यहोवा परमेश्वर ने पृय्वी पर मेंह न बरसाया या, और भूमि पर खेती करनेवाला कोई मनुष्य न या।
6 परन्तु कोहरा पृय्वी पर से उठकर सारी भूमि पर छा गया।
7 और यहोवा परमेश्वर ने मनुष्य को भूमि की मिट्टी से रचा, और उसके नथनों में जीवन का श्वास फूंक दिया, और मनुष्य जीवित प्राणी बन गया।
8 और यहोवा परमेश्वर ने अदन में पूर्व की ओर एक बाटिका लगाई, और वहां उस पुरूष को रखा, जिसे उस ने रचा था।
9 और यहोवा परमेश्वर ने भूमि से सब प्रकार के वृक्ष उगाए जो देखने में सुहावने और खाने में अच्छे होते हैं; बाटिका के बीच में जीवन का वृक्ष, और भले या बुरे के ज्ञान का वृक्ष भी है।
10 और बाटिका को सींचने के लिये अदन से एक नदी निकली, और वहां से वह अलग होकर चार धाराओं में हो गई।
11 पहिले का नाम पिसोन है: यही वह है जो हवीला नाम सारे देश को, जहां सोना है, घेरे हुए है;
12 और उस देश का सोना उत्तम है, वहां नीलमणि और सुलैमानी पत्थर मिलता है।
13 और दूसरी नदी का नाम गीहोन है: वही नदी कूश के सारे देश को घेरे हुए है।
14 और तीसरी नदी का नाम हिद्देकेल है: यह वही है जो अश्शूर के पूर्व की ओर जाती है। चौथी नदी फ़रात है।
15 और यहोवा परमेश्वर ने पुरूष को लेकर अदन की बाटिका में रख दिया, कि वह उसे तैयार करे, और उसकी रखवाली करे।
16 और यहोवा परमेश्वर ने मनुष्य को यह आज्ञा दी, कि तू बाटिका के सब वृझों का फल खा सकता है;
17 परन्तु भले या बुरे के ज्ञान का जो वृक्ष है उसका फल तू कभी न खाना; क्योंकि जिस दिन तू उसका फल खाएगा उसी दिन अवश्य मर जाएगा।
18 और यहोवा परमेश्वर ने कहा, मनुष्य का अकेला रहना अच्छा नहीं; मैं उसके लिए एक हेल्प मीट बनाऊंगा.
19 और यहोवा परमेश्वर ने मैदान के सब पशुओं, और आकाश के सब पक्षियोंको भूमि से उत्पन्न किया; और उन्हें आदम के पास ले आया, कि देखे कि वह उनका क्या नाम रखता है: और जो कुछ आदम ने सब जीवित प्राणियों को कहा, वही उसका नाम हो गया।
20 और आदम ने सब घरेलू पशुओं, और आकाश के पक्षियों, और मैदान के सब पशुओं के नाम रखे; परन्तु एडम के लिये कोई सहायता नहीं मिल सकी।
21 और यहोवा परमेश्वर ने आदम को गहरी नींद में डाल दिया, और वह सो गया: और उस ने उसकी एक पसली निकालकर उसकी सन्ती मांस भर दिया;
22 और जो पसली यहोवा परमेश्वर ने मनुष्य में से निकाली थी, उसी से उसने स्त्री बनाई, और उसे पुरूष के पास पहुंचा दिया।
23 और आदम ने कहा, अब यह मेरी हड्डियों में की हड्डी और मेरे मांस में का मांस है: इसका नाम नारी होगा, क्योंकि यह नर में से निकाली गई है।
24 इस कारण मनुष्य अपके माता पिता को छोड़कर अपनी पत्नी से मिला रहेगा, और वे एक तन होंगे।
25 और पुरूष और उसकी पत्नी दोनों नंगे थे, और लज्जित न हुए।

1 जो परमप्रधान के गुप्त स्थान में निवास करता है, वह सर्वशक्तिमान की छाया में रहेगा।
2 मैं यहोवा के विषय में कहूंगा, वह मेरा शरणस्थान और मेरा गढ़ है; मैं उस पर भरोसा रखूंगा।
3 निश्चय वह तुझे बहेलिये के जाल से, और भयंकर महामारी से बचाएगा।
4 वह तुझे अपने पंखोंसे छिपा लेगा, और तू उसके पंखोंके नीचे भरोसा रखेगा; उसकी सच्चाई तेरी ढाल और झिलम ठहरेगी।
5 तू रात के भय से न डरना; न उस तीर के लिये जो दिन में उड़ता है;
6 और न उस मरी के लिथे जो अन्धियारे में फैलती है; न उस विनाश के लिये जो दोपहर को उजाड़ता है।
7 तेरे पक्ष में हजार, और तेरी दाहिनी ओर दस हजार गिरेंगे; परन्तु वह तेरे निकट न आएगा।
8 परन्तु तू अपक्की आंखोंसे देखेगा, कि दुष्टोंका प्रतिफल हो।
9 क्योंकि तू ने प्रभु को जो मेरा शरणस्थान है अर्यात् परमप्रधान को अपना निवास ठहराया है;
10 तुझ पर कोई विपत्ति न पड़ेगी, और कोई विपत्ति तेरे निवास के निकट न आएगी।
11 क्योंकि वह अपके दूतोंको तेरे विषय में आज्ञा देगा, कि वे सब प्रकार से तेरी रक्षा करें।
12 वे तुझे हाथों हाथ उठा लेंगे, ऐसा न हो कि तेरे पांव में पत्थर से ठेस लगे।
13 तू सिंह और नाग को कुचल डालेगा; तू जवान सिंह और अजगर को पांव तले रौंद डालेगा।
14 क्योंकि उस ने मुझ पर अपना प्रेम रखा है, इस कारण मैं उसे बचाऊंगा; मैं उसे ऊंचे स्थान पर रखूंगा, क्योंकि उस ने मेरे नाम को जान लिया है।
15 वह मुझे पुकारेगा, और मैं उसे उत्तर दूंगा; संकट में मैं उसके संग रहूंगा; मैं उसे छुड़ाऊंगा, और उसका आदर करूंगा।
16 मैं उसे दीर्घायु से तृप्त करूंगा, और अपना उद्धार उसे दिखाऊंगा।

भगवान को पहले रखो

Decree and Declaration

मैं हूँ, सर्वशक्तिमान पिता परमेश्वर, मैं हूँ, सार्वभौमिक निर्माता। शुरुआत में, मैं, सर्वशक्तिमान पिता परमेश्वर ने स्वर्ग और पृथ्वी का निर्माण किया। धर्मग्रंथ यह बिल्कुल स्पष्ट करते हैं कि... शुरुआत में शब्द था, और शब्द भगवान के साथ था, और शब्द भगवान था। आमतौर पर लिखा जाने वाला शब्द घोषित करने के लिए आगे बढ़ता है। भगवान के साथ शुरुआत मे बिलकुल यही था। इसमें यह भी कहा गया है, सभी चीजें उसके द्वारा बनाई गईं; और उसके बिना कुछ भी नहीं बना जो बनाया गया था। उसमें जीवन था; और जीवन मनुष्यों की ज्योति था। और ज्योति अन्धकार में चमकती है; और अंधेरे ने इसको समाविष्ट नहीं किया। इसलिए, जैसा कि मैं सार्वभौमिक निर्माता हूं, "शब्द" का जीवन और पुरुषों के प्रकाश में निहित पवित्र बाइबिल "शब्द" के भीतर निहित शब्दों के जीवन का हर अक्षर, किसी भी आदेश की परवाह किए बिना मेरी व्यक्तिगत स्वामित्व वाली निजी संपत्ति है। या इच्छित उपयोग के लिए, वे मेरी आमतौर पर उपयोग की जाने वाली और भारी कीमत पर संरक्षित संपत्ति हैं, मेरे द्वारा स्वामित्व, डिजाइन, निर्मित और "भगवान के शब्द" के रूप में बनाई गई हैं।

कई लोग अंधेरे सार्वजनिक मंचों पर मेरी संपत्ति को भ्रष्ट करते हैं और कई अलग-अलग तरीकों से मेरी बातें दूसरों तक पहुंचाते हैं, इसे अब ज्यादा समय तक बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसलिए, मैं जल्द ही किसी भी सामान्य रूप से ज्ञात पत्र या शब्द को दूसरे के लिए असत्य के रूप में बोलने या लिखने वाले के चिमटे और हाथों को पकड़ लूंगा। उनके अंधेरे संचार को रोकने के लिए. यहां तक कि बंद दरवाजे के पीछे लिखे या बोले गए शब्द या संकेत भी छूट नहीं जाएंगे। शैतान का छह हजार वर्षों का सहनशील झूठ अब स्वर्ग में ढीला और बंधा हुआ है। वे जल्द ही हमेशा के लिए तंग आ जाएंगे और पृथ्वी पर सार्वभौमिक रूप से बंधे हो जाएंगे जैसे कि स्वर्ग में है।

दस धर्मादेश

मैं तुम्हारा परमेश्वर यहोवा हूं, जो तुम्हें मिस्र देश से दासत्व के घर से निकाल लाया हूं। मेरे सामने तुम्हारे पास कोई अन्य देवता/मूर्ति नहीं होगी। तुम अपने लिये कोई खोदी हुई मूरत या किसी वस्तु की समानता न बनाना जो ऊपर स्वर्ग में है, या नीचे पृय्वी पर है, या पृय्वी के नीचे के जल में है:

फिर उसने अपने हाथ से दो पत्थर की पट्टियों पर लिखा...

तू उनके आगे न झुकना, और न घुटने टेकना, और न उनकी सेवा करना; क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा ईर्ष्यालु ईश्वर हूं, और जो मुझ से बैर रखते हैं, उनके बेटों-पोतों से लेकर तीसरी और चौथी पीढ़ी तक पितरों के अधर्म का दण्ड देता हूं।

और उन हजारों पर दया करना जो मुझ से प्रेम रखते हैं

और मेरी आज्ञाओं का पालन करो।

 

तुम अपने परमेश्वर यहोवा का नाम व्यर्थ न लेना;

क्योंकि यहोवा तुम्हें निर्दोष न ठहराएगा

यदि तुम व्यर्थ उसका नाम लेते हो।

 

विश्राम का दिन मनाओ

इसे पवित्र करने का दिन, जैसा कि तेरे परमेश्वर यहोवा ने तुझे आज्ञा दी है।

 

छ: दिन तक परिश्रम करना, और अपना सब काम करना;

 

परन्तु सातवां दिन तुम्हारे परमेश्वर यहोवा का विश्रामदिन है;

उसमें तुम कोई काम न करना, न तुम्हारा बेटा, न तुम्हारी बेटी, न तुम्हारा दास, न तुम्हारी दासी, न तुम्हारा बैल, न तुम्हारा गदहा, न तुम्हारा कोई पशु, न तुम्हारा कोई परदेशी जो तुम्हारे फाटकों के भीतर हो। ; कि तेरे दास और दासी तेरे समान चैन करें।

 

और स्मरण रखो, कि तुम्हारे सब परिवार के सदस्य मिस्र देश में दास थे, और तुम्हारा परमेश्वर यहोवा अपने बलवन्त हाथ और बढ़ाई हुई भुजा से तुम सब को सुरक्षित निकाल लाया; विश्रामदिन पवित्र.

अपने पिता और अपनी माता का आदर करना, जैसा कि तेरे परमेश्वर यहोवा ने तुझे आज्ञा दी है; कि जो देश तेरा परमेश्वर यहोवा तुझे देता है उस में तेरी आयु बहुत हो, और तेरा भला हो।

तुम्हें हत्या नहीं करनी चाहिए.

 

तुम व्यभिचार भी न करना।

 

न ही तुम चोरी करोगे.

अपने पड़ोसी के विरुद्ध झूठी गवाही न देना।

न तो तू अपने पड़ोसी की पत्नी का लालच करना, न ही तू अपने पड़ोसी के घर, उसके खेत, या उसके नौकर, या उसकी दासी, उसके बैल, या उसके गधे, या जो कुछ भी तुम्हारे पड़ोसी का है, उसका लालच करना।

आत्मा की परीक्षा कैसे करें?

हे प्रियो, हर एक आत्मा की प्रतीति न करो, परन्तु आत्माओं को परखो कि वे परमेश्वर की ओर से हैं, क्योंकि जगत में बहुत से झूठे भविष्यद्वक्ता निकल आए हैं। इसके द्वारा तुम परमेश्वर की आत्मा को जानो: प्रत्येक आत्मा जो स्वीकार करती है कि यीशु मसीह शरीर में आया है, वह परमेश्वर की है: और हर आत्मा जो यह स्वीकार नहीं करती है कि यीशु मसीह शरीर में आया है, वह परमेश्वर की नहीं है: और यह मसीह विरोधी की आत्मा है , जिसके विषय में तुम सुन चुके हो, कि वह आनेवाला है; और अब भी यह दुनिया में पहले से ही मौजूद है। हे बालकों, तुम परमेश्वर के हो, और उन पर जय पा चुके हो; क्योंकि जो तुम में है वह उस से जो जगत में है, बड़ा है। वे संसार के हैं: इसलिये वे संसार के विषय में बोलते हैं, और संसार उनकी सुनता है। हम परमेश्वर के हैं: जो परमेश्वर को जानता है वह हमारी सुनता है; जो परमेश्वर का नहीं है वह हमारी नहीं सुनता। इसी से हम सत्य की आत्मा और त्रुटि की आत्मा को जानते हैं। हे प्रियो, आओ हम एक दूसरे से प्रेम रखें; क्योंकि प्रेम परमेश्वर की ओर से है; और जो कोई प्रेम रखता है वह परमेश्वर से उत्पन्न हुआ है, और परमेश्वर को जानता है। 1. यूहन्ना 4:1- 7

यीशु के शक्तिशाली नाम में

Hindi आत्मा की परीक्षा कैसे करें?
NEWS
Once more a family bloodline member from a German background is planning to burn souls in the British Isles 

PSALM 91.
He that dwelleth in the secret place of the most High shall abide under the shadow of the Almighty.
2 I will say of the Lord, He is my refuge and my fortress: my God; in him will I trust.
3 Surely he shall deliver thee from the snare of the fowler, and from the noisome pestilence.
4 He shall cover thee with his feathers, and under his wings shalt thou trust: his truth shall be thy shield and buckler.
5 Thou shalt not be afraid for the terror by night; nor for the arrow that flieth by day;
6 Nor for the pestilence that walketh in darkness; nor for the destruction that wasteth at noonday.
7 A thousand shall fall at thy side, and ten thousand at thy right hand; but it shall not come nigh thee.
8 Only with thine eyes shalt thou behold and see the reward of the wicked.
9 Because thou hast made the Lord, which is my refuge, even the most High, thy habitation;
10 There shall no evil befall thee, neither shall any plague come nigh thy dwelling.
11 For he shall give his angels charge over thee, to keep thee in all thy ways.
12 They shall bear thee up in their hands, lest thou dash thy foot against a stone.
13 Thou shalt tread upon the lion and adder: the young lion and the dragon shalt thou trample under feet.
14 Because he hath set his love upon me, therefore will I deliver him: I will set him on high, because he hath known my name.
15 He shall call upon me, and I will answer him: I will be with him in trouble; I will deliver him, and honor him.
16 With long life will I satisfy him, and shew him my salvation.

charles 1.png

I'm a paragraph. Click here to add your own text and edit me. It's easy.

AAAAAA.png

HOW MANY DEMONS CAN YOU SEE IN THIS MIRRORED PAINTING OF KING CHARLES III ?

cccccc.png

The King wants us all to believe these images depict the masonic demons. I will  prove them wrong

MASONS ARE TRYING TO PUT FEAR IN YOUR MINDS. BUT I WILL BE REVEALING THE REAL TRUTH THAT WAS DOCCUMENTED BY A WELL KNOWN WORLD RENOUNED ORGANISATION. YOU WILL SEE EXACTLY WHAT THE DEVIL LOOKS LIKE. AND THIS KINGS CRAP, IS PURE MASONIC BU**SH*T.
And have no fellowship with the unfruitful works of darkness, but rather reprove them. Eph 5: 11
 

MASONIC BS.png
dark gov 2.png

And have no fellowship with the unfruitful works of darkness, but rather reprove them. Ephesians 5: 11... they must repent before Jesus

    "AF":  "Afghanistan",
    "AX":  "Aland Islands",
    "AL":   "Albania",
    "DZ":  "Algeria",
     AS":  "American                             Samoa", 
    "AD": "Andorra",
    "AO": "Angola",
    "AI":   "Anguilla",
    "AQ": "Antarctica",
    "AG": "Antigua and                         Barbuda",
    "AR": "Argentina", 
    "AM": "Armenia",   
    "AW": "Aruba",
    "AU": "Australia",
    "AT": "Austria", 
    "AZ": "Azerbaijan",
    "BS": "Bahamas",
    "BH": "Bahrain",
    "BD": "Bangladesh",
    "BB": "Barbados",
    "BY": "Belarus",
    "BE": "Belgium",
    "BZ": "Belize",
    "BJ":  "Benin",
    "BM": "Bermuda",
    "BT":  "Bhutan",
    "BO": "Bolivia",
    "BQ": "Bonaire, Sint                Eustatius and Saba",
    "BA":  "Bosnia and hertz.      "BW": "Botswana",
    "BV":  "Bouvet Island",
    "BR":  "Brazil",
    "IO":  "British Indian                         Ocean 
    "BN": "Brunei                                   Darussalam",     

    "BG":  "Bulgaria",
     "BF": "Burkina Faso",
     "BI": "Burundi",
     "KH": "Cambodia",
    "CM": "Cameroon",
    "CA":  "Canada",
    "CV":  "Cape Verde",
    "KY":  "Cayman Islands",
    "CF":  "Central                                 African Rep.
    "TD":  "Chad",
    "CL":  "Chile",
    "CN": "China",
    "CX": "Christmas Island",
    "CC": "Cocos                        (Keeling) Islands",
    "CO": "Colombia",
    "KM": "Comoros",
    "CG": "Congo",
    "CD": "Congo, the                           Democratic R
    "CK": "Cook Islands",
    "CR": "Costa Rica",
    "CI": "Cote D'Ivoire",
    "HR": "Croatia",
    "CU": "Cuba",
    "CW": "Curacao",
    "CY": "Cyprus" G
    "CY" "Cyprus" T
    "CZ": "Czech Republic",
    "DK": "Denmark",
    "DJ": "Djibouti",
    "DM": "Dominica",
    "DO": "Dominican                           Republic",
    "EC": "Ecuador",
    "EG":  "Egypt",
    "SV":   "El Salvador",
    "GQ": "Equatorial                           Guinea",
    "ER":   "Eritrea",
    "EE":   "Estonia",
    "ET":   "Ethiopia",
    "FK":   "Falkland Islands 
    "FO":   "Faroe Islands",
    "FJ":    "Fiji",
    "FI":    "Finland",
    "FR":   "France",
    "GF":  "French Guiana",
    "PF":   "French Polynesia",
    "TF":   "French Southern T 
    "GA": "Gabon",
    "GM": "Gambia",
    "GE":  "Georgia",
    "DE":  "Germany",
    "GH": "Ghana",
    "GI":  "Gibraltar",
    "GR": "Greece",
    "GL": "Greenland",
    "GD": "Grenada",
    "GP": "Guadeloupe",
    "GU": "Guam",
    "GT": "Guatemala",
    "GG": "Guernsey",
    "GN": "Guinea",
    "GW": "Guinea-Bissau",
    "GY":  "Guyana",
    "HT":  "Haiti",
    "VA": "Holy See
    "HN": "Honduras",
    "HK": "Hong Kong",
    "HU": "Hungary",
    "IS":   "Iceland",
    "IN":  "India",
    "ID":   "Indonesia",
    "IR":   "Iran, ,
    "IQ":  "Iraq",
    "IE":   "Ireland",
    "IM":  "Isle of Man",
    "IL":    "Israel",
    "IT":   "Italy",
    "JM":  "Jamaica",
    "JP":    "Japan",
    "JE":    "Jersey",
    "JO":   "Jordan",
    "KZ":   "Kazakhstan",
    "KE":   "Kenya",
    "KI":    "Kiribati",
    "KP":   "Korea, D.P.R.
    "KR":   "Korea,
    "XK":   "Kosovo",
    "KW": "Kuwait",
    "KG":  "Kyrgyzstan",
    "LA":   "Lao P.D.R.
    "LV":   "Latvia",
    "LB":   "Lebanon",
    "LS":   "Lesotho",
    "LR":   "Liberia",
    "LY":   "Libyan Arab              "LI":    "Liechtenstein",
    "LT":   "Lithuania",
    "LU":  "Luxembourg",
    "MO": "Macao",
    "MK":  "Macedonia
    "MG": "Madagascar",
    "MW": "Malawi",
    "MY":  "Malaysia",
    "MV":  "Maldives",
    "ML":   "Mali",
    "MT":   "Malta",
    "MH":  "Marshall Islands",
    "MQ": "Martinique",
    "MR":  "Mauritania",
    "MU": "Mauritius",
    "YT":   "Mayotte",
    "MX":  "Mexico",
    "FM":  "Micronesia,
    "MD": "Moldova, ",
    "MC": "Monaco",
    "MN": "Mongolia",
    "ME":  "Montenegro",
    "MS":  "Montserrat",
    "MA": "Morocco",
    "MZ": "Mozambique",
    "MM": "Myanmar",
    "NA":  "Namibia",
    "NR":  "Nauru",
    "NP": "Nepal",
    "NL": "Netherlands",
    "AN": "Netherlands                         Antilles",
    "NC": "New Caledonia",
    "NZ": "New Zealand",
    "NI":  "Nicaragua",
    "NE": "Niger",
    "NG": "Nigeria",
    "NU": "Niue",
    "NF": "Norfolk Island",
    "MP": "Northern Mariana                 Islands",
    "NO": "Norway",
    "OM": "Oman",
    "PK":   "Pakistan",
    "PW":  "Palau",
    "PS":   "Palestinian                           Territory, 
    "PA":   "Panama",
    "PG": "Papua New                          Guinea",
    "PY": "Paraguay",
    "PE": "Peru",
    "PH": "Philippines",
    "PN": "Pitcairn",
    "PL":   "Poland",
    "PT":   "Portugal",
    "PR":   "Puerto Rico",
    "QA":  "Qatar",
    "RE":   "Reunion",
    "RO":  "Romania",
    "RU":   "Russian                                Federation",
    "RW":  "Rwanda",
    "BL":    "Saint Barthelemy",
    "SH":   "Saint Helena",
    "KN":   "Saint Kitts and                       Nevis",
    "LC":   "Saint Lucia",
    "MF":  "Saint Martin"
    "VC": "St Vincent and the                 Grenadines",
    "WS": "Samoa",
    "SM":  "San Marino",
    "ST":   "Sao Tome and                       Principe",
    "SA":  "Saudi Arabia",
    "SN": "Senegal",
    "RS":  "Serbia",
    "CS": "Serbia and                          Montenegro",
    "SC": "Seychelles",
    "SL":  "Sierra Leone",
    "SG": "Singapore",
    "SX":  "Sint Maarten",
    "SK":  "Slovakia",
    "SI":   "Slovenia",
    "SB":  "Solomon Islands",
    "SO": "Somalia",
    "ZA": "South Africa",
    "GS": "South Georgia                      South Sandwich                    Islands",
    "SS": "South Sudan",
    "ES": "Spain", 
    "LK": "Sri Lanka",
    "SD": "Sudan",
    "SR": "Suriname",
    "SJ": "Svalbard and Jan                   Mayen",
    "SZ": "Swaziland",
    "SE": "Sweden",
    "CH": "Switzerland",
    "SY": "Syrian Arab                         
Republic",
    "TW": "Taiwan, 
    "TJ":   "Tajikistan",
    "TZ":  "Tanzania
    "TH":  "Thailand",
    "TL":   "Timor-Leste",
    "TG":  "Togo",
    "TK":   "Tokelau",
    "TO":  "Tsonga",
    "TT":   "Trinidad and                         Tobago",
    "TN":  "Tunisia",
    "TR":   "Turkey",
    "TM": "Turkmenistan",
    "TC": "Turks and Caicos 
    "TV": "Tuvalu",
    "UG": "Uganda",
    "UA": "Ukraine",
    "AE": "United Arab                          Emirates",
    "GB": "Great Britain",
    "US": "United States",
    "UM": "United States              Minor Outlying Islands",
    "UY": "Uruguay",
    "UZ": "Uzbekistan",
    "VU": "Vanuatu",
    "VE": "Venezuela",
    "VN": "Viet Nam",
    "VG": "Virgin Islands,                       British",
    "VI":   "Virgin Islands,                       U.S.",
    "WF":  "Wallis and                            Futuna",
    "EH":   "Western Sahara",
    "YE":    "Yemen",
    "ZM":  "Zambia",
    "ZW": "Zimbabwe"

Welcome to a platform of the most high God

under-construction.gif
bottom of page